मोटे लोगों के लिए वरदान से कम नहीं भुना चना, दूर रहेंगी ये 7 प्रॉब्लम्स

punjabkesari.in Monday, Nov 29, 2021 - 11:00 AM (IST)

बहुत से लोग स्वाद स्वाद के लिए भुने हुए चने खाते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि सेहत के लिए यह किसी वरदान से कम नहीं। कार्ब्स, फाइबर, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन और विटामिन से भरपूर भुने चनों को गरीबों का बादाम भी कहा जाता है। चलिए आज हम आपको बताते हैं भुने हुए चने खाने के ऐसे जबरदस्त फायदे, जिसके बाद आप भी इसका सेवन शुरू कर देंगे।

कब और कितनी मात्रा में करें सेवन?

एक्सपर्ट के अनुसार, एक स्वस्थ व्यक्ति को रोज 50 से 60 ग्राम भुने हुए चनें खाने चाहिए। ध्यान रखें कि भुने हुए चने दो तरह के होते हैं छिलके और बिना छिलके वाले। आपको बिना छिलके वाले चने खाने हैं, जो सेहत के लिए अच्छे होते हैं।

PunjabKesari

कब्ज की समस्या से राहत दिलाने में कारगर हैं ये चीजें, जानिए क्या खाने से बचें?
मजबूत हड्डियां

चूंकि इसमें कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है इसलिए इसका सेवन हड्डियों को मजबूत बनाता है। इससे मांसपेशियों में भी मजबूती आती है। 

शरीर को मिलेगी ऊर्जा

फाइबर, आयरन और कार्ब्स से भरपूर होने के कारण भुने चने का सेवन शरीर को एनर्जेटिक रखता है। ऐसे में रोजाना मुट्ठीभर भुने चने जरूर खाएं।

सही रहेगा पाचन

हाजमा सही रखने के लिए रोज भुने चने खाएं। इसमें फाइबर होता है जो पाचन क्रिया को दुरुस्त रखता है। इससे पेट संबंधी परेशानियां जैसे कब्ज व अपच भी नहीं होगी।

डायबिटीज में फायदेमंद

भुने हुए चने में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिससे शुगर लेवल नहीं बढ़ता। ऐसे में डायबिटीज मरीजों को रोज भुने हुए चने जरूर खाने चाहिए। डॉक्टर भी इसकी सलाह देते हैं।

PunjabKesari

स्ट्रांग होगी इम्यूनिटी

इसका सेवन इम्युनिटी को भी बढ़ाता है, जिससे आप सर्दियों में सर्दी-खांसी, जुकाम, बैक्टीरियल इंफेक्शन से भी बचे रहते हैं।

पेशाब संबंधी रोग से छुटकारा

जिन लोगों को यूरिन से जुड़ी परेशानी है उन्हें रोज गुड़ के साथ भुने चने खाना चाहिए। इससे कुछ ही दिन में फर्क देखने को मिलेगा।

पुरुषों के लिए फायदेमंद

शोध के मुताबिक, अगर भुने हुए चने को अच्छी तरह चबाकर खाया जाए तो इससे मर्दाना ताकत बढ़ती है। वहीं, इससे फर्टिलिटी भी बढ़ती है और स्पर्म का पतलापन दूर होता है।

कंट्रोल रहेगा वजन

कैलोरी की मात्रा कम और फाइबर अधिक होने के कारण इससे भूख कंट्रोल होती है। इससे आप ओवरइटिंग से बच जाते हैं और वजन कंट्रोल में रहता है।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anjali Rajput

Related News

Recommended News

static