बरसाती मौसम में वायरल रोगों से बचे रहेंगे बच्चे, पैरेंट्स जरूर बरतें ये सावाधानियां

punjabkesari.in Monday, Jun 27, 2022 - 12:24 PM (IST)

मानसून गर्मी से तो राहत दिलवाता है, लेकिन अपने साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है। मौसम के बदलाव से शरीर में भी कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। खासकर छोटे  बच्चे इस मौसम में बहुत ही जल्दी बीमारी की चपेट में आते हैं। इस मौसम में कई तरह की बैक्टीरियल समस्याएं होने का खतरा रहता है। खासकर छोटे बच्चों को इस मौसम में खास देखभाल की जरुरत पड़ती है। तो चलिए आपको बताते हैं कि कैसे आप इस मौसम में बच्चे का ख्याल रख सकते हैं। 

समय-समय पर धुलवाएं हाथ 

इस मौसम में बच्चे जब भी बाहर से खेलकर आएं तो आप उनके हाथ जरुर धुलवाएं। इस मौसम में कई तरह के बैक्टीरिया पनपते हैं, जिससे बच्चों को बचाने की खास आवश्यकता होती है। आप बच्चों को खाना खाने के से पहले और बाद में भी अच्छे से हाथ धोने के लिए कहें। 

PunjabKesari

मच्छरदानी में सुलाएं

बरसात के मौसम में मच्छर, मक्खी और कई तरह के छोटे-छोटे जीव होते हैं, जो कई तरह की बीमारियों को जन्म देते हैं। आप बच्चों को इन मच्छरों के प्रभाव से बचाने के लिए मच्छरदानी में सुलाएं। इसके अलावा बच्चे जब भी बाहर जाएं तो मच्छर दूर भगाने वाली क्रीम भी जरुर लगाकर दें। 

PunjabKesari

अच्छे से करें घर की सफाई

मानसून के मौसम में भी बरसाती जीव बहुत होते हैं। इसके अलावा छोटे-मोटे कीड़े मकौड़े भी बच्चे के स्वास्थ्य को खराब कर सकते हैं। बच्चों को इन कीड़े-मकौड़ों से बचाने के लिए घर की सफाई अच्छे से करें। कई बार बच्चे फर्श पर पड़ा सामान उठाकर मुंह में डाल लेते हैं, जिसके कारण उन्हें नुकसान हो सकता है। 

डायपर बदलते रहें 

आप इस मौसम में बच्चे का डायपर भी समय-समय पर बदलते रहें। इस मौसम में बच्चों को एलर्जी और रैशेज होने की परेशानी भी रहती है। इसलिए बच्चे का ख्याल रखने के लिए आप समय-समय पर उसका डायपर बदलते रहें। ताकि बच्चे को किसी भी तरह की समस्या न हो। 

PunjabKesari

उबला हुआ पानी भी जरुर पिलाएं 

इस मौसम में इंफेक्शन होने का खतरा भी बहुत ही अधिक रहता है। बरसाती मौसम का पानी भी बच्चों को खराब लग सकता है इसलिए आप उन्हें पानी भी उबालकर ही पिलाएं। जर्म्स से बचाने के लिए घर पर रिपेलेंट लिक्विड का इस्तेमाल भी जरुर करें। 

 सूती कपड़े पहनाएं 

बरसाती मौसम में कभी धूप तो कभी बारिश होती ही रहती है। आप इस समस्या से बच्चों को बचाने के सूती कपड़े जरुर पहनाएं। ऐसे कपड़े बच्चों के लिए चूज करें, जिनसे उनका शरीर कवर हो सके। सूती कपड़े पसीने के रुप में निकलने वाले शरीर के जहरीले टॉक्सिन्स को आसानी से सोख लेते हैं और आपके शरीर से गंदगी को भी आसानी से दूर करते हैं। 

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

palak

Related News

Recommended News

static