दवा नहीं, 30 के बाद नेचुरल डाइट से पूरी करें मल्टीविटामिन की कमी

2021-10-21T16:48:10.217

महिलाओं का शरीर मजबूत होना बहुत जरूरी है क्योंकि उसे पीरियड्स से लेकर प्रैग्नेंसी तक, शारीरिक रुप से कई परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। 30 प्लस होने के बाद वैसे ही महिला के शरीर में कई तत्वों की कमी होनी शुरू हो जाती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग और डिलीवरी के दौरान महिला का शरीर अंदरुनी कमजोर होने लगता है। इस कमजोरी को दूर करने के लिए 30 प्लस महिलाओं को कैल्शियम, आयरन, विटामिन खाने की सलाह दी जाती है। बहुत सी महिलाएं मल्टीविटामिन व अन्य सप्लीमेंट्स लेना शुरू करती हैं लेकिन इनकी बजाए महिलाएं अपनी डाइट को ही सही रखें तो दवाइयां खाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।  

PunjabKesari

चलिए आज के पैकेज में हम आपको कुछ ऐसे सुपरफूड्स बताते हैं जो महिलाएं अगर रुटीन में खा ले तो ताउम्र उनके शरीर में कमजोरी नहीं होगी।

1: ब्रोकली

हफ्ते में एक बार ब्रोकली का सेवन जरूर करें। ये खाने में भले ही आपको स्वाद ना लगे लेकिन इसके पौष्टिक तत्व आपके शरीर के लिए बहुत जरूरी है। इसके एक कम में पर्याप्त विटामिन सी होता है।

2. बीटरूट यानि चुकंदर

जिन महिलाओं का ब्लड प्रैशर कम होता है उन महिलाओं के लिए तो बीटरुट वरदान है हालांकि यह हाई ब्लड प्रैशर महिलाओं के लिए बढ़िया है। यह खून की कमी नहीं होने देता और ना ही हार्ट स्ट्रोक। आप सलाद या जूस के रुप में इसका सेवन हफ्ते में 1 से 2 बार जरूर करें।

PunjabKesari

3: हल्दी

मसालों में हल्दी सबसे ज्यादा फायदेमंद मानी जाती है। इसमें पाया जाने वाला कर्क्यूमिन तत्व अपच की समस्या, गठिए, हड्डियों की समस्या को दूर करती हैं।

4ः ब्लूबैरीज

एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर ब्लूबैरीज महिलाओं को दिल की बीमारियां डायबिटीज और गठिए की समस्या नहीं होने देती है। हफ्ते में एक बार इसका सेवन जरूर करें। यह आपकी स्किन को जवां भी रखती है।  

5ः बादाम

मुट्ठीभर बादाम तो हर महिला की डेली रुटीन में होने चाहिए। भिगे हुए बादाम का सेवन करें तो ज्यादा बेहतर है। ओमेगा-3 एसिड से भरपूर बादाम सेहत ही नहीं स्किन और बालों के लिए भी बढ़िया है। इससे डाइजेशन और इम्यून सिस्टम को मजबूत रहता है।

6ः अलसी के बीज

अलसी के बीजों में ओमेगा-3 फैटी एसिड विटामिन्स मिनरल्स और फाइबर बहुत ज्यादा होता है। इसीलिए तो इसे सुपरफूड में शामिल किया गया है। यह महिला शरीर के हार्मोनस को बेलेंस करने में मदद करते हैं। दिन में 1 चम्मच अलसी के बीच खाएं।

7ः अखरोट

अखरोट भी बादाम की तरह बहुत फायदेमंद है। यह कोलेस्ट्राल और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाता है।

8ः पपीता

पीले ऑरेंज के इस फल में विटामिन ए और ई बहुत ज्यादा होता है। यह महिलाओं की पीरियड्स प्रॉब्लम को दूर करता है और कोलन कैंसर से बचाव भी। हफ्ते में 2 बाउल पपीता जरूर खाएं।

PunjabKesari

9ः दही

दही ब्लड ग्लूकोज के स्तर को सही रखता है और शुगर के खतरे को कम। इसके अलावा और भी बहुत सारे फायदे हैं एक कटोरी दही खाने के ।

10ः एवोकाडो

एवोकाडो का स्वाद भले ही बकबका हो लेकिन यह फल पोषक तत्वों से भरपूर है। एवोकाडो में ओमेगा-3 और 6 फैटी एसिड होते हैं जो हार्मोंस को बैलेंस करने में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए हफ्ते में 1 बार एक एवोकाडो जरूर खाएं।

इसके अलावा साबुत अनाज जैसे जौ, क्विनोआ, साबुत दालें, फल और हरी सब्जियों को डाइट में शामिल करें।

PunjabKesari

याद रखिए दवाइयों और सप्लीमेंट्स से ज्यादा असरदार आपकी हैल्दी डाइट है। अगर आपकी डाइट हैल्दी होगी तो आपको मल्टीविटामिन्स आदि सप्लीमेंट्स लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर आप कोई सप्लीमेंट खाना भी चाहती हैं तो डाक्टरी सलाह जरूर लें। क्योंकि कुछ मल्टीविटामिन्स लेने से  पेट संबंधी समस्या, लिवर को नुकसान, हार्मोनल गड़बड़ी, हाई बीपी, झुर्रियां, अधिक प्यास लगना, डायरिया, कमजोर हड्डियां आदि समस्याएं हो सकती हैं। ऐसा तब होता है जब शरीर में विटामिन्स हद से ज्यादा स्टोर होने लगता है।

यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें बताना ना भूलें।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vandana

Related News

Recommended News

static