कैंसर के कारण होने वाले बांझपन का भी हो सकता है इलाज

Saturday, September 2, 2017 4:17 PM
कैंसर के कारण होने वाले बांझपन का भी हो सकता है इलाज

अक्सर महिलाओं में कैंसर के कारण बांझपन की समस्यां हो जाती है लेकिन न्यूयॉर्क ने कैंसर के कारण होने वाली इस समस्यां का सामधान ढ़ूढ लिया है। न्यूयॉर्क ने एक ऐसी दवाई बनाई है, जिसकी मदद से महिलाओं में इस समस्यां को होने से रोका जा सकता है। दरअसल कैंसर के इलाज के दौरान इस्तेमाल होने वाली रेडिएशन और कीमोथेरेपी दवाइओं के कारण महिलाओं को इस बीमारी का सामना करना पड़ता है। इन दवाइयों की मदद से महिलाओं को इस बीमारी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

PunjabKesari

कुछ ही समय पहले हुए एक शोध के मुताबिक स्तन कैंसर की बीमारी से ग्रस्त 40 प्रतिशत महिलाओं के अंडाशय खराब हो गए थे। महिलाओं के शरीर में अंडाणुओं या अविकसित अंडाणुओं को विकसित करने का संचय होता है लेकिन कैंसर की दवाओं के कारण गर्भाशय की सामान्य क्रियाएं होनी बंद हो जाती है और अंडाणु की प्रजनन शक्ति खत्म हो जाती है।

PunjabKesari

महिलाओं के शरीर में अंडाणुओं या अविकसित अंडाणुओं को विकसित करने का संचय होता है लेकिन यह अंडाणु शरीर की सबसे संवेदनशील कोशिकाओं में से एक होने के कारण कैंसर के इलाज के दौरान खत्म हो जाते है।

PunjabKesari

एक शोध में चेकप्वाइंट प्रोटीन का पता लगाया गया जिससे इन क्षतिग्रस्त अंडाणुओं को फिर से सक्रिय किया जा सके। सीएचके 2 नामक यह दवाई उन तत्वों को नुकसान पहुचाती है जो क्षतिग्रस्त डीएनए वाले अंडाणुओं को हटा देता है। इसके द्धारा विकृत संतान को जन्म देने से बचाती है।

PunjabKesari

कैंसर के इलाज के दौरान महिलाएं डॉक्टर्स द्धारा अपने अंडाणुओं या गर्भाशय की कोशिकाओं को हटवा या फ्रीज करवा सकती है लेकिन ऐसा करने पर कैंसर के इलाज में देरी हो सकती है। शरीर से गर्भाशय को निकालने पर महिलाएं प्राकृतिक तौर पर रजोनिवृत्ति की तरफ बढ़ जाती है। जिससे कैंसर की दवाइयां धीरे-धीरे काम करती है।

PunjabKesari

इसके अलावा इस अध्ययन के जरिए वैज्ञानिकों ने सीएचके 2 संबंधित दवाइयां और थेरेपी को साथ-साथ शुरु करने के नजरिए उपलब्ध करवाएं है। हालाकिं अभी इसे मानव शरीर पर प्रयोग करने की जरूरत होगी।

PunjabKesari



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !