Children''s Day: 14 नवंबर को क्यों मनाया जाता है बाल दिवस, जानिए इसका इतिहास

2020-11-14T10:46:06.253

14 नवंबर को पूरे भारत वर्ष में बाल दिवस मनाया जाता है। स्कूल और अलग-अलग संस्थाओं द्वारा बच्चों के लिए बाल दिवस पर कई कार्यक्रम आर्गेनाइज किए जाते हैं। इस दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जन्म हुआ था। उन्हें बच्चों से बेहद लगाव था। सब उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे। इसी वजह से जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। 

जानिए बाल दिवस का इतिहास

भारत में पहली बार बाल दिवस साल 1956 में मनाया गया था। पहले पूरे विश्व में ये दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था। लेकिन पंडित जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद भारत में उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गई। तभी से 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस मनाया जाता है। इसके अलावा इसी दिन बाल मजदूरी पर रोक लगाने का कानून भी पास किया गया था।

PunjabKesari

महत्व 

बच्चों को सही शिक्षा, पोषण, संस्कार मिले यह देशहित के लिए बेहद अहम है क्योंकि आज के बच्चे ही कल का भविष्य हैं। बच्चे नाजुक मन के होते है और हर छोटी चीज या बात उनके दिमाग पर असर डालती है। उनका आज, देश के आने वाले कल के लिए बेहद महत्वपूर्ण है इसलिए उनके क्रियाकलापों, उन्हें दिए जाने वाले ज्ञान और संस्कारों पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। इसके साथ ही बच्चों की मानसिक और शारीरिक सेहत का ख्याल रखना भी जरुरी हैं। 

PunjabKesari

इन देशों में इस दिन मनाया जाता है बाल दिवस 

विभिन्न देशों में अलग-अलग तारीखों को बाल दिवस मनाया जाता है। 

चीन - 1 जून

जापान- 5 मई

मैक्सिको- 30 अप्रैल

न्यूजीलैंड - मार्च के पहले रविवार

ऑस्ट्रेलिया- अक्टूबर के चौथे हफ्ते 

ब्राजील- 12 अक्टूबर

मिस्त्र - 20 नवंबर

पाकिस्तान- 16 दिसंबर 

श्रीलंका- 1 अक्टूबर

कनाडा- 20 नंवबर 

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Bhawna sharma

Recommended News

static