Happiness Tips: सिर्फ खुश रहना नहीं है जीवन का उद्देश्य, क्रोध और चिंता भी है जरूरी

punjabkesari.in Thursday, Jun 30, 2022 - 03:32 PM (IST)

मानसिक विकारों के इलाज के लिए चिकित्सा और जैविक तरीकों का उपयोग करने वाली मनोरोग चिकित्सा के स्थान पर अब मनोचिकित्सा का चलन बढ़ चला है, जो बातचीत और परामर्श जैसे गैर-जैविक दृष्टिकोणों पर निर्भर है, मनोचिकित्सकों ने वैकल्पिक रास्तों की तलाश की है। एक सामान्य दृष्टिकोण मानसिक रूप से स्वस्थ लोगों की खुशी बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करना है, न कि मानसिक पीड़ा और पीड़ित लोगों को आघात से राहत देना।

 

मौजूदा समय को खुशी के साथ जियो

मनोवैज्ञानिकों द्वारा दी गई सबसे आम सलाह यह है कि अपने मौजूदा समय को खुशी के साथ जीना चाहिए। ऐसा करने से हमें अधिक सकारात्मक होने में मदद मिलती है और तीन सबसे कुख्यात भावनात्मक अवस्थाओं से बचने में मदद मिलती है,: रिग्रेट यानी अफसोस, एंगर यानी क्रोध और वरी यानी चिंता। अंततः, यह सुझाव देता है कि हम अतीत के बारे में पछतावे और क्रोध, या भविष्य के बारे में चिंताओं पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करने से बचते हैं।

PunjabKesari
अतीत को जिए बिना नहीं सीख सकते

यह एक आसान काम लगता है। लेकिन  आप अतीत को जिए बिना नहीं सीख सकते, और आप भविष्य को जिए योजना नहीं बना सकते। उदाहरण के लिए, पछतावा, जो हमें अतीत पर चिंतन करके पीड़ित कर सकता है, अपनी गलतियों से सीखने के लिए उन्हें दोहराने से बचने के लिए एक अनिवार्य मानसिक तंत्र है। भविष्य के बारे में चिंताएं हमें कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित करने के लिए भी आवश्यक हैं जो आज कुछ अप्रिय है लेकिन भविष्य में हमें लाभ या अधिक नुकसान पहुंचा सकती है। यदि हमें भविष्य की बिल्कुल भी चिंता न हो, तो हम शिक्षा प्राप्त करने, अपने स्वास्थ्य की जिम्मेदारी लेने या भोजन का भंडारण करने की भी परवाह नहीं कर सकते।

 

क्रोध एक सहायक भावना है 

पछतावे और चिंताओं की तरह, क्रोध एक सहायक भावना है यह हमें दूसरों द्वारा दुर्व्यवहार से बचाता है और हमारे आसपास के लोगों को हमारे हितों का सम्मान करने के लिए प्रेरित करता है। अनुसंधान से यह भी पता चला है कि बातचीत में कुछ हद तक गुस्सा मददगार हो सकता है, जिससे बेहतर परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। यही नहीं, अनुसंधान से पता चला है कि सामान्य रूप से नकारात्मक मनोदशा काफी उपयोगी हो सकती है - यह हमें सजग और अधिक संदेहपूर्ण बनाती है। 

PunjabKesari
घबराने की बजाय लक्ष्य को पूरा करें

रिश्तों में अति आत्मविश्वास एक समस्या बन सकता है (जहां थोड़ी सी विनम्रता काम बना सकती है)। यह हमें एक कठिन कार्य के लिए ठीक से तैयारी करने में विफल भी कर सकता है - और जब हम अंततः असफल हो जाते हैं तो दूसरों को दोष देते हैं। दूसरी ओर, रक्षात्मक निराशावाद, चिंतित व्यक्तियों की मदद कर सकता है, विशेष रूप से, घबराने के बजाय छोटे लक्ष्य को सामने रख कर तैयारी कर सकता है, जिससे बाधाओं को दूर करना आसान हो जाता है।

 

खुशी पर हमारा नियंत्रण नहीं

आखिर अगर हमें अपनी खुशी पर पूरा नियंत्रण है तो हम अपने दुख के लिए बेरोजगारी, असमानता या गरीबी को कैसे दोष दे सकते हैं? लेकिन सच्चाई यह है कि हमारी खुशी पर हमारा पूरा नियंत्रण नहीं है, और सामाजिक संरचनाएं अक्सर प्रतिकूलता, गरीबी, तनाव और अनुचित वातावरण पैदा कर सकती हैं - ऐसी चीजें जो यह तय करती हैं कि हम कैसा महसूस करते हैं।

PunjabKesari

जीवन का उद्देश्य खुश रहना नहीं है

 फिर सवाल आता है कि क्या वास्तव में जीवन में खुशी सबसे महत्वपूर्ण मूल्य है। क्या यह कुछ स्थिर भी है जो समय के साथ टिक सकता है? इन सवालों का जवाब सौ साल से भी पहले अमेरिकी दार्शनिक राल्फ वाल्डो इमर्सन ने दिया था: “जीवन का उद्देश्य खुश रहना नहीं है। यह उपयोगी होना है, सम्माननीय होना, दयालु होना, इससे कुछ फर्क पड़ता है कि आपने अपना जीवन अच्छी तरह से जिया है।"

 

(ईयाल विंटर, एंड्रयूज और एलिजाबेथ ब्रूनर, व्यवहारगत/औद्योगिक अर्थशास्त्र के प्रोफेसर, लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी) 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Related News

Recommended News

static