दवा नहीं, हल्दी से करें Uric Acid और जोड़ दर्द का इलाज

2021-07-22T10:40:49.023

आज के समय में हर तीसरा व्यक्ति बढ़े हुए यूरिक एसिड लेवल से परेशान रहता है, जिसका कारण काफी हद तक गलत खानपान व लाइफस्टाइल है। वहीं, अगर इसपर कंट्रोल ना किया जाए तो गठिया, अर्थराइटिस,  किडनी स्टोन, हार्ट डिजीज, हाइपरटेंशन जैसे रोगों का खतरा बढ़ जाता है। यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए लोग दवाओं के पीछे भागते हैं लेकिन भारतीय रसोई में मौजूद हल्दी से भी इसे कंट्रोल कर सकते हैं। चलिए आपको बताते हैं कि यूरिक एसिड को कैसे कंट्रोल करती है हल्दी

क्यों बढ़ जाता है यूरिक एसिड?

प्यूरिन (एक तरह का प्रोटीन) के टूटने से शरीर में कम या ज्यादा यूरिक एसिड बनता है, जो फिल्टर होकर खून व किडनी के जरिए शरीर से बाहर निकल जाता है। मगर, जब किडनी टॉक्सिक को फिल्टर करने में असमर्थ हो जाती है तो खून में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है। ऐसे में यह हड्डियों में जमा होने लगता है तो धीरे-धीरे गाउट का रूप ले लेता है। इसे ही हाई यूरिक एसिड या हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है। एक शोध की मानें तो यूरिक एसिड के कारण मरीज की उम्र 11 साल तक कम हो जाती है।

PunjabKesari

चलिए अब आपको बताते हैं कि हल्दी से कैसे कंट्रोल करें यूरिक एसिड

हल्दी से पाए यूरिक एसिड पर काबू

एंटीबैक्टीरियस, एंटी-इंफ्लामेटरी, एंटीसेप्टिक, करक्यूमिन के गुणों से भरपूर हल्दी यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में कारगर है। साथ ही इससे गठिया होने का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है।

जोड़ों के दर्द को करेगी कम

यूरिक एसिड से ग्रस्त मरीजों को जोड़ों में दर्द, अकड़न व सूजन जैसी समस्याएं भी हो सकती है। शोध के अनुसार, करक्यूमिन नामक तत्व जोड़ों में दर्द, गठिया, पैरों की सूजन  व गाउट के इलाज में असरदार है क्योंकि इसमें फ्लेक्सोफिटॉल होता है। वहीं, हल्की में यह तत्व भरपूर मात्रा में होता है।

यूरिक एसिड के लिए कैसे इस्तेमाल करें हल्दी

हल्दी वाला दूध

रात को सोने से पहले 1 गिलास दूध में 1 चम्मच हल्दी डालकर पीने से यूरिक एसिड कंट्रोल रहता है और पैरों की सूजन भी कम होती है। साथ ही इससे जोड़ों के दर्द से भी आराम मिलता है।

PunjabKesari

भोजन में हल्दी का इस्तेमाल

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए भोजन में हल्दी के साथ चुटकीभर काली मिर्च भी पाएं। इससे आप कई बीमारियों से भी बचे रहेंगे।

लेप लगाने से भी मिलेगा आराम

हल्दी का पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्सा पर लगाएं और रातभर के लिए छोड़ दें। रोजाना ऐसा करने से ना सिर्फ यूरिक एसिड कंट्रोल रहेगा बल्कि इससे जोड़ों में दर्द की समस्या भी नहीं होगी।

हल्दी ड्रिंक बनाकर पीएं

1 गिलास पानी में 1 छोटा चम्‍मच हल्‍दी पाउडर डालकर उबालें। फिर इसे गुनगुना करके शहद मिलाएं। रोज सुबह खाली पेट इस पानी का सेवन यूरिक एसिड को बढ़ने नहीं देगा। इसके अलावा, हल्दी वाली चाय पीने से भी फायदा होगा।

हल्दी सप्लीमेंट्स भी फायदेमंद

यूरिए एसिड कंट्रोल करने के लिए हल्दी सप्लीमेंट्स या करक्यूमिन का कैप्सूल भी शामिल कर सकते हैं लेकिन इसे लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anjali Rajput

Recommended News

static