प्रैग्नेंसी के दौरान जरूर करें तुलसी का सेवन, मिलेेंगे कई फायदे

Friday, April 21, 2017 10:08 AM
प्रैग्नेंसी के दौरान जरूर करें तुलसी का सेवन, मिलेेंगे कई फायदे

पंजाब केसरी (सेहत) : तुलसी का पौधा हर घर में होता है। इसके पत्ते सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाईयां बनाने के लिए किया जाता है। तुलसी में विटामिन और खनिज जैसे कई पोषक तत्व होते हैं जो गर्भवती महिला और छोटे बच्चों को काफी फायदा पहुंचाती है। तुलसी के पत्तों का सेवन करने से कोई साइड इफैक्ट नहीं होता। इसके अलावा इन पत्तों के सेवन से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। आइए जानिए तुलसी के पौधे के फायदों के बारे में


दवा बनाने के लिए - 
PunjabKesari

तुलसी के पौधे में औषधीय गुण होता है इसलिए इन पत्तों के इस्तेमाल से कई तरह की आयुर्वेदिक दवाईयां बनाई जाती हैं। दवाइयों के अलावा तुलसी के पत्तों का रोजाना सेवन करने से शरीर कई बीमारियों से दूर रहता है। तुलसी के पौधे में एंटी-वायरल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं जो शरीर मेें होने वाले घाव को जल्दी भरने में मदद करता है। हल्की चोट लगने पर तुलसी के पत्तों का लेप बनाकर लगाने से घाव जल्दी ठीक हो जाता है। इसके अलावा सर्दी-जुकाम होने पर भी तुलसी के पत्तों की चाय बनाकर पीने से फायदा मिलता है।


गर्भवती के लिए फायदेमंद - 
गर्भावस्था के दौरान महिला किसी भी तरह की दवा खाने से परहेज करती हैं। ऐसे में जब बुखार या हल्की कमजोरी महसूस हो तो तुलसी के पत्तों का सेवन कर लेना चाहिए। इससे गर्भवती महिला और उसके बच्चे को कोई नुक्सान नहीं होगा। इसके अलावा प्रैग्नेंसी में रोजाना तुलसी के पत्तों का सेवन करने से काफी फायदा होता है।
PunjabKesari1.भ्रूण का विकास 
महिला को प्रैग्नेंसी के शुरूआती दिनों में ही तुलसी के पत्तों का सेवन शुरू कर देना चाहिए। इसमें मौजूद विटामिन-ए भ्रूण का विकास करने में फायदेमंद होता है। 

2. हड्डियां
तुलसी के पत्ते गर्भवती महिला के अंदर पल रहे बच्चे के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इनमें पाया जाने वाला मैग्नीशियम बच्चे की हड्डियों का विकास करने में सहायक है।

3. तनाव
गर्भवस्था के दौरान महिलाएं अक्सर तनाव में रहती हैं जिससे होने वाले बच्चे को नुकसान होता है। ऐसे में तुलसी के पत्तों का सेवन करना चाहिए जो दिमाग को शांत रखता है और तनाव को भी कम करता है।

4. एनिमिया
प्रैग्नेंट महिलाओं में बच्चे के जन्म के बाद खून की कमी हो जाती है जिससे एनिमिया की समस्या हो जाती है। ऐसे में गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में ही तुलसी के पत्तों का सेवन करना शुरू कर देना चाहिए।
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !