भानु अथैया थी पहली भारतीय महिला, जिन्हें मिला ऑस्कर अवॉर्ड

Wednesday, March 7, 2018 11:08 AM
भानु अथैया थी पहली भारतीय महिला, जिन्हें मिला ऑस्कर अवॉर्ड

90वें, ऑस्कर अवॉर्ड 2018 का समारोह खम्म हो चुका है, जो हर साल अमेरिकन अकादमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेस (AMPAS) द्वारा फिल्म इंडसट्री में डायरेक्टर्स, एक्टर्स और लेखकों को पहचान देने के लिए आयोजित किया जाता है। ऑस्कर अवॉर्ड पाना हर फिल्मी सितारें का ख्वाब होता है, लेकिन क्या आप जानते है भारत में सबसे पहले ऑस्कर अवॉर्ड किसे मिला था?


जी हां, 11 अप्रैल, 1983 भारत के इतिहास में बेहद खास दिन था क्योंकि तब पहली भारत की एक महिला ने ऑस्कर अवॉर्ड अपने नाम किया था। भारत को पहला ऑस्कर अवॉर्ड दिलाने वाली कॉस्टयूम डिजाइनर भानु अथैया ने फिल्म 'गांधी' के लिए बेस्ट कॉस्टयूम डिजाइन का अवॉर्ड जीता था।  

 

यह तो पता है कि भानु अथैया ऑस्कर जीतने वाली पहली भारतीय महिला हैं। उन्होंने अपने ब्रिटिश काउंटरपार्ट जॉन मोलो के साथ अपनी जीत को साझा किया और 26 साल तक ऑस्कर जितने वाली भारतीय महिला बनी रही। हालांकि ए.आर रहमान,रेसुल पोकुट्टी और गुलजार भी ऑस्कर जीत चुके है, लेकिन अभी तक भानु अथैया एकमात्र ऐसी भारतीय महिला है, जिन्होंने ऑस्कर जीता। 
 

PunjabKesari


आइए जानते है उनकी जिंदगी से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें

- कॉस्टयूम डिजाइनर भानु अथैया का जन्म 28 अप्रैल साल 1929 के दिन महाराष्ट्र के कोल्‍हापुर में हुआ था। 

- उनका पूरा नाम भानुमति अन्नासाहेब राजोपाध्येय रखा गया। 

- 1982 में भानू ने रिचर्ड एटनबरो की अंतरराष्ट्रीय फिल्म 'गांधी' के लिए कॉस्ट्यूम डिजाइन किया। 

- आमिर खान की फिल्म 'लगान' ( 2001) और 'लेकिन' के लिए दो बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजा गया। 

- शाहरुख की फिल्म स्वदेस (2004) के लिए काम  किया। 

- कॉस्टयूम डिजाइन पर साल 2010 में 'The Art Of Costume Design' के नाम से एक किताब भी लिखी है। 

- भानु अथैया 50 सालों से फिल्म जगत में काम कर रही हैं और 100 से ज्यादा फिल्मों के लिए कपड़े डिजाइन कर चुकी हैं। 

- फिल्म प्यासा, चौहदवीं का चांद और साहब बीवी और गुलाम जैसी फिल्मों के लिए कपड़े डिजाइन कर भानु ने अपना नाम रोशन किया। 


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन