रक्तदान दिवस: रक्तदान से कैंसर का खतरा होता है कम, जानिए ब्लड डोनेट करने के अन्य फायदे

2021-06-14T12:20:57.32

कहते हैं कि किसी को खून देकर उसकी जान बचा जा सकती है। ऐसे में रक्तदान को सबसे ऊपर माना गया है। मगर फिर भी लोग रक्तदान करने को कतराते हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, इससे मरीज के साथ डोनर को भी फायदा मिलता है। जी हां, खून देने से डोनर यानि खून देने वाले व्यक्ति को भी सेहत संबंधी फायदा होता है। इससे उसके मन और शरीर दोनों पर ही अच्छा असर होता है। ऐसे में हर साल इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए 14 जून को विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है। ताकि लोगों को रक्तदान के प्रति जागरूक किया जाए। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि ब्लड डोनेट करने से सेहत को किस तरह लाभ मिलता है। 

जरूरी बात 

सबसे पहले आपको बता दें, कि स्वस्थ व 18 साल से बड़े व्यक्ति को रक्तदान के लिए जरूरत आगे आना चाहिए। इससे आप किसी जरूरतमंद की जान बचा सकते हैं। वहीं खून को प्लाज्मा, प्लेटलेट और लाल रक्त कोशिकाओं जैसे तीन घटकों में तोड़ा जाता है। ऐसे में इन्हें अलग करके एक ही रक्तदान से 3 जिंदगियों को नया जीवनदान दिया जा सकता है। 

चलिए अब जानते हैं रक्तदान करने से सेहत को मिलने वाले फायदों के बारे में...

 

कैंसर का खतरा कम 

नियमित अंतराल से रक्तदान करने से शरीर में आयरन की अधिकता में कमी आती है। ऐसे में कुछ निश्चित प्रकार के कैंसर से बचा जा सकता है। 

PunjabKesari

दिल के लिए फायदेमंद 

एक्सपर्ट्स के अनुसार, रक्तदान करने से दिल को बेहतर तरीके से काम करता है। ऐसे में स्ट्रोक व दिल संबंधी अन्य गंभीर बीमारियों की चपेट में आने का खतरा कई गुणा कम हो जाता है। कहते हैं कि खून में आयरन की मात्रा अधिक होने से दिल संबंधी बीमारी होने का खतरा रहता है। ऐसे में नियमित रूप से रक्त का दान करने से खून में आयरन की मात्रा कंट्रोल रहती है और दिल स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। 

रेड सेल्स को बढ़ावा 

रक्तदान के बाद शरीर खून को पूरा करने में जुट जाता है। इसतरह शरीर की कोशिकाएं अधिक रेड सेल्स का निर्माण करने लगती है। ऐसे में शरीर को बेहतर से काम करने की शक्ति मिलती है। साथ ही बीमारियों की चपेट में आने का खतरा कम रहता है। 

वजन नियंत्रित 

शायद ही आप जानते होंगे कि खून का दान करने से शरीर में कैलोरी बर्न होने में मदद मिलती है। ऐसे में आप आसानी से वजन कंट्रोल कर सकते हैं। शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का स्तर कुछ महीनों में बैलेंस हो जाता है। ऐसे में इस दौरान अच्छी डाइट व एक्सरसाइज से वजन कंट्रोल रहने में मदद मिलती है। वैसे तो हम यूं नहीं कह सकते हैं कि इससे वजन कम होता है। बस रक्तदान के बाद अच्छी डाइट व एक्सरसाइज करने से इसे नियंत्रित किया जा सकता है। हां, इससे आप स्वस्थ रह सकते हैं। 

अच्छी सेहत

जैसे कि पहले ही बताया गया है कि इससे शरीर में आयरन की बढ़ोतरी से बचा जा सकता है। ऐसे में फिट एंड फाइन रहने के लिए रक्तदान करना बेस्ट ऑप्शन है। 

ब्लड प्रेशर कंट्रोल 

एक्सपर्ट्स के अनुसार, रक्तदान से सेहत में सुधार होने के साथ ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में मदद मिलती है। 

अंदर से खुशी का अहसास 

वहीं कुछ अच्छा काम करने से हर किसी को अंदर से खुशी का अहसास होता है। ऐसे में अगर आप रक्तदान करके किसी की जिंदगी बचाने में अपना योगदान देंगे तो आपको भी अच्छा व संतुष्ट महसूस होगा। 

PunjabKesari

हेल्थ चेकअप

इससे सेहत संबंधी फायदे मिलने के साथ आपका निशुल्क हेल्थ चेकअप भी हो जाएगी। असल में, रक्तदान करने से पहले व्यक्ति की सेहत व खून की जांच की जाती है। ऐसे में इस दौरान हीमोग्लोबिन के स्तर का पता लगाने के साथ कुछ संक्रमणों व बीमारियों की आशंका की भी जांच की जा सकती है। इसके अलावा खून जांच से इस बात का पता भी लगाया जाता है कि आप रक्तदान करने के लिए तैयार है या नहीं। ऐसे में इससे आपको सेहत संबंधी कई फायदे मिल सकते हैं। 

ये लोग कर सकते हैं रक्तदान 

डॉक्टर्स के मुताबिक, 18 से 60 साल की उम्र का व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। मगर इसके लिए वह पूरी तरह से स्वस्थ होना चाहिए। अगर कोई किसी बीमारी से पीड़ित हो या कोई दवा ले रहे हैं तो उसे रक्तदान से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। इसलिए जरूरी है कि रक्तदान की जांच समय वह अपने बारे में पूरी जानकारी दें। दूसरी ओर हीमोग्लोबिन का स्तर और सेहत के मानक पर खरे उतरने पर महिलाएं रक्तदान कर सकती हैं। मगर मासिक धर्म, गर्भावस्था और स्तनपान की स्थिति में महिलाओं को रक्तदान नहीं करना चाहिए। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

neetu

Recommended News

static