बैकुंठ चतुर्दशी: इस दिन शिवजी ने श्रीहरि को दिया था सुदर्शन चक्र, जानिए इस व्रत का महत्व

11/27/2020 5:33:44 PM

हिंदूओं का पवित्र महीना कार्तिक मास चल रहा है। इस मास की शुक्क्ष पक्ष की चतुर्दशी तिथि को बैकुंठ चतुर्दशी मनाई जाती है। माना जाता है कि इस शुभ दिन पर पूरे विधि-विधान से श्रीहरि की पूजा करने न व्रत रखने से मृत्यु के बाद बैकुंठ में स्थान मिलता है। इस साल यह शुभ दिन 29 नवंबर 2020 दिन शनिवार को मनाया जाएगा। तो चलिए जानते हैं इस दिन का शुभ मुहूर्त...

बैकुंठ चतुर्दशी शुभ मुहूर्त 

बैकुंठ चतुर्दशी तिथि का आरंभ –  28 नवंबर 2020 रात 10:22

समाप्त – 29 नवंबर 2020 दोपहर 12:48 मिनट तक

बैकुंठ चतुर्दशी निशिथ काल –  29 नवंबर 2020 रात 11:39 मिनट से 12:32 मिनट तक

PunjabKesari

बैकुंठ चतुर्दशी का महत्‍व 

माना जाता है कि इस दिन भगवान श्रीहरि और शिवजी की पूरे विधि-विधान व सच्चे मन से पूजा करने वाले को मृत्यु के बाद उसके सारे पाप दूर हो जाते हैं। साथ ही व्यक्ति को बैकुंठ यानि स्वर्ग में स्थान मिलता है। 

शिव जी की भी होती है पूजा 

पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शिव ने इसी शुभ दिन पर श्रीहरि को सुदर्शन चक्र दिया था। ऐसे में बैकुंठ चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु के साथ महादेव की एक ही रूप में पूजा करनी शुभ होती है। 

PunjabKesari

हजार कमलों से पूजा करना होता है शुभ 

इस शुभ दिन पर भगवान की पूजा में 1000 कमल के फूल चढ़ाना बेहद शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि जो लोग इस दिन पूरी श्रद्धा से चढ़ाने व पूजा करने व्रत रखने वाला व्यक्ति और उसका परिवार बैकुंठ धाम को प्राप्त होता है। 

PunjabKesari

इस दिन श्राद्ध और तर्पण करना होगा शुभ 

पौराणिक कथाओं के अनुसार, महाभारत काल के समय में श्रीकृष्ण ने युद्ध में मारे गए सभी योद्धाओं का श्राद्ध इसी दिन कराया था। ऐसे में वे सभी लोग अपने पापों से मुक्त होकर श्रीहरि के धाम पहुंचे थे। ऐसे में बैंकुंठ तिथि को श्राद्ध और तर्पण करना भी शुभ माना जाता है। 


 


neetu

Recommended News