वेजिटेरियन लोगों के लिए बेस्ट है ये प्रोटीन डाइट

6/18/2020 2:53:40 PM

गर्मियों में बहुत सी महिलाओं को हेल्थ प्रॉब्लम्स से जुझना पड़ना हैं। इस मौसम में सबसे ज्यादा इनडाइजेशन यानी बदहजमी की परेशानी होती है। साथ ही ज्यादा गर्मी के कारण बहुत बार कुछ खाने का मन भी नहीं करता। इसतरह बीमार पड़ने के चांसिस बढ़ते है। ऐसे में इससे बचने के लिए अपनी डाइट का खास ध्यान देने की जरूरत होती है। इसके लिए अपनी रोजाना के आहार में सही मात्रा में प्रोटीन को शामिल करना बेहद जरूरी है। इसे लेने से इम्यूनिटी बढ़ने में मदद मिलती है। इसतरह सेहत बरकरार रहती है। इससे मेटाबॉलिज्म हाई होता है, जिससे वजन कम करने में भी मदद मिलती है। 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

मुंबई की मशहूर न्यूट्रिशनिस्ट शिल्पा मित्तल का कहना है कि 'सभी लोगों को रोजाना अपने वजन के मुताबिक 1 ग्राम प्रति किलो के हिसाब प्रोटीन लेना चाहिए। गर्मियों  हम कौन सी चीजों को खाकर अपनी प्रोटीन की कमी को पूरा करते है उसपर खास ध्यान देना चाहिए। अगर आप प्रोटीन से भरे अंडे को ज्यादा खाएंगे तो यह शरीर में गर्मी पहुंचाता है। इस मौसम में सभी की पाचन क्रिया थोड़ी कमजोर होती है। ऐसे में अपनी प्रोटीन डाइट पर विशेष ध्यान देना चाहिए। वहीं कहीं आप स्प्राउट्स को खा सकते है। मगर आप इसे खाना पसंद नहीं करते है तो इसकी जगह हल्की और आसानी से डाइजेस्ट होने वाली दाल को खा सकते है। इसके लिए मूंग या मसूर दाल काफी फायदेमंद होती हैं। इसके अलावा दही और छाछ का भी सेवन करें। ये सभी चीजें शरीर को स्वस्थ रखने के साथ ठंडक पहुंचाने का काम करती है। 

डेयरी प्रोडक्ट्स इस तरह से लें

शिल्पा मित्तल ने बताया कि अपनी डाइट में दूध को जरूर शामिल करना चाहिए। जिन्हें दूध पसंद नहीं या हैवी लगता है वे कम से कम 1 कप पी सकती हैं। इसे हल्का गर्म करके खाने के कुछ देर बाद पी सकते है। दूध को अच्छे से पचाने और टेस्टी बनाने के लिए आप इसमें मुनक्का, खजूर या अंजीर को मिक्स कर सकते हैं। सेहत के लिए गाय का दूध भी बहुत फायदेमंद माना जाता है। मगर इसे पीने से पहले याद रखें कि यह जीरो फैट ना हो। असल में ऐसा दूध पीने से शरीर को कोई फायदा नहीं होगा। गर्मी अधिक होने के कारण फुल फैट दूध पीने की जगह सेमी फैट दूध पीएं। पनीर भी प्रोटीन का एक अच्छा स्त्रोत है। आप हैवी की जगह लो फैट पनीर का सेवन कर सकते है।

nari,PunjabKesari

अच्छी तरह से पकी हुई हो दाल

दाल बनाते समय उसे अच्छी तरह पकाएं। अगर दाल कच्ची रह जाएंगी तो इसे खाने से पट से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आप दाल को स्प्राउट करके भी खा सकते है। यह पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करती है।  

चने बनाएं तो इन बातों का ध्यान रखें

बहुत से लोग चने खाना पसंद करते है। इसलिए महिलाएं इसे अक्सर घर पर बनाती है। मगर यह खाने में हैवी होते है, जिसके कारण इसे पचाने में मुश्किल आती है। इस पर शिल्पा कहती है कि चनों को बनाने से पहले इसे रातभर या 10-12 घंटों तक भिगोकर रखें। साथ ही इसे भिगोने से पहले पानी से बार-बार धोएं। इसे धोते समय झाग बनती है इसीलिए इसे कई बार धोएं। साथ ही भिगे हुए चनों इसका पानी बार-बार बदलें। अच्छे से धोने और पकाने से यह खाने में हैवी नहीं लगते है। 

 


Edited By

neetu

Related News