कोरोना वायरस से संक्रमित होने के 9 माह बाद तक शरीर में रहती है एंटीबॉडी: स्टडी

2021-07-20T10:49:22.263

कोरोना वायरस की जहां दूसरी लहर खत्म हो रही है तो वहीं तीसरी लहर ने देश में दस्तक दे दी है। वहीं हर दिन कोरोना वायरस से संबंधित नए-नए अध्ययन सामने आ रहे हैं। हाल ही में एक नया शोध सामने आया है जिसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के नौ महीने बाद तक शरीर में एंटीबॉडी का स्तर बना रहता है। साथ ही इससे फर्क नहीं पड़ता कि व्यक्ति में कोई लक्षण था या नहीं। 

बतां दें कि यह अध्ययन इटली में यूनिवर्सिटी ऑफ पाडुआ और ब्रिटेन में इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने यह दावा किया। उन्होंने पिछले साल फरवरी और मार्च में कोरोना से संक्रमित हुए इटली के वो के 3000 निवासियों में से 85 प्रतिशत के आंकड़ों का विश्लेषण किया। मई और नवंबर 2020 में एक बार फिर से इन लोगों में एंटीबॉडी की जांच की गई।
 

PunjabKesari

अध्ययन के अनुसार, फरवरी और मार्च में संक्रमित 98.8 प्रतिशत लोगों में नवंबर में एंटीबॉडी कायम थी। नतीजे से यह भी पता चला कि संक्रमण के गंभीर या बिना लक्षण वाले मामलों में एंटीबॉडी का स्तर समान रहा।

PunjabKesari

अध्ययन की अग्रणी लेखक का कहना है कि हमें ऐसा कोई प्रमाण नहीं मिला कि लक्षण वाले या बिना लक्षण वाले लोगों में एंटीबॉडी का स्तर अलग-अलग हो। इससे संकेत मिलता है कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली, लक्षण या बीमारी की गंभीरता पर निर्भर नहीं करती है। 

PunjabKesari

बहुत लोगों को यह भी नहीं पता था कि वे कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे 
अध्ययन की टीम के अनुसार, कुछ लोगों में एंटीबॉडी का स्तर बढ़ गया इससे संकेत मिला कि वायरस से वे दोबारा संक्रमित हुए होंगे। यूनिवर्सिटी ऑफ पाडुआ के प्रोफेसर का कहना है कि मई की जांच से पता चला कि वो शहर की 3.5 प्रतिशत आबादी संक्रमित हुई। बहुत लोगों को यह भी नहीं पता था कि वे कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे क्योंकि उनमें किसी तरह के लक्षण नहीं थे। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Recommended News

static