दूसरी लहर प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए रही खतरनाक, जरूर लगवाएं टीका: ICMR स्टडी

2021-06-17T13:15:09.967

कोरोना वायरस को लेकर आए दिन नई-नई स्टडी सामने आ रही हैं। हाल ही में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की एक नई स्टडी सामने आई हैं, जिसमें कहा गया है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने गर्भवती महिलाओं और हाल ही में बच्चों को जन्म दे चुकीं महिलाओं पर ज्यादा असर डाला। गंभीर लक्षण वाले केस और मृत्यु दर भी पहली लहर के मुकाबले इस लहर में ज्यादा रहे।

PunjabKesari


दूसरी लहर में लक्षण वाले केस इस बार अधिक थे-
ICMR की इस स्टडी में गर्भवती और बच्चों को जन्म दे चुकीं महिलाओं के मामलों की पहली और दूसरी लहर के दौरान तुलना की गई। स्टडी के मुताबिक, दूसरी लहर में लक्षण वाले केस इस बार अधिक थे जो कि 28.7 फीसदी थे, जबकि पहली लहर में ये आंकड़ा 14.2 फीसदी तक था। वहीं, दूसरी लहर में मृत्यु दर 5.7 फीसदी था और पहली लहर में सिर्फ 0.7 फीसदी तक रहा था। 
 

 स्टडी में कुल 1530 गर्भवती और बच्चों को जन्म देने वाली महिलाएं थी शामिल- 
इस स्टडी को कुल 1530 गर्भवती और बच्चों को जन्म देने वाली महिलाओं पर किया गया, जिसमें से 1143 पहली लहर, 387 दूसरी लहर में शामिल थीं। पहली और दूसरी लहर में मिलाकर कुल मृत्यु दर दो प्रतिशत था, जिसमें अधिकांश कोविड निमोनिया और सांस लेने में दिक्कत के मामले थे। 

 

PunjabKesari

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को वैक्सीन लेने की सलाह-
स्टडी के अनुसार, इस श्रेणी की महिलाओं के लिए वैक्सीनेशन काफी जरूरी है। भारत में स्तनपान कराने वाली महिलाओं को वैक्सीन लेने की सलाह दी गई है, हालांकि अभी सरकार की ओर से कोई गाइडलाइन्स नहीं जारी की गई हैं। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने हाल ही में सिफारिश की थी कि अगर गर्भवती महिलाओं को कोविड का ज्यादा खतरा हो और अगर उन्हें अन्य बीमारियां हैं तो उन्हें टीका लगाया जाना चाहिए।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Recommended News

static