फेफड़ों की तंदरुस्ती सबसे जरूरी, इन्हें हर इंफेक्शन से बचाएगी ये 5 चीजें

7/2/2020 12:35:12 PM

कोरोना वायरस की चपेट में न आने के लिए सभी को अपनी इम्यूनिटी स्ट्रांग करने की सलाह दी जा रही है। इसके अलावा यह वायरस फेफड़ों पर हमला जल्दी करता है तो इसके लिए फेफड़ों का खासतौर पर ध्यान रखने की जरूरत है। फेफड़ों में इंफेक्शन होने से सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही में सांस से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ता है। इसके लिए खाने में कुछ चीजों को शामिल करने की जरूरत है जिससे फेफड़ों को मजबूती मिल सके। तो चलिए आज हम आपको 5 ऐसे सुपर फूड्स के बारे में बताते है जिनके सेवन से आपके फेफड़ों को मजबूती मिलने के साथ इंफेक्शन और बीमारियों के लगने का खतरा कम होगा।

सेब

आपने सुना ही होगा कि रोजाना एक सेब खाना चाहिए। सेब में एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल आदि गुण होते है। रोजाना 1 सेब का सेवन करने से फेफड़े मजबूत हो बेहतर ढंग से काम करते है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक हफ्ते में कम से कम 5 सेब जरूर खाने चाहिए। इससे फेफड़ों से संबंधित बीमारियों के होने का खतरा कम रहता है। साथ ही यह शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। इसतरह अस्थमा और कैंसर के फेफड़ों के होने से बचाव रहता है। इसके अलावा बॉडी में सेल्स  की कमी को भी पूरा करने में मदद मिलती है। 

nari

कद्दू 

सीताफल कहे जाने वाला कद्दू बहुत सी पौष्टिक तत्वों से भरा होता है। इसमें विटामिन, कैल्शियम, बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन, एंटी- ऑक्सीडेंट, एंटी- इंफ्लेमेट्री गुण होने से फेफड़ स्वस्थ रहते है। ऐसे में फेफडो़ं से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा दूर होता है। इसके अलावा जो लोग सिगरेट, अल्कोहल का सेवन करने हैँ। उनके फेफड़ें जल्दी खराब होते है। इसलिए इन लोगों को खासतौर पर अपनी डाइट में कद्दू को शामिल करना चाहिए। 

Pumpkin,nari

हल्दी

एंटी- बैक्टीरियल, एंटी- वायरल, एंटी- इंफ्लेमेट्री गुणों से भरपूर हल्दी का सेवन करने से शरीर की इम्यूनिटी बढ़ती है। ऐसे में इंफेक्शन, मौसमी सर्दी-जुकाम, बुखार होने से बचाव रहता है। इसमें मौजूद एंटी- ऑक्सीडेंट तत्व फेफड़ों को सुचारू ढंग से काम करने में मदद करते है। रिसर्च के मुताबिक भी फेफड़ों को स्वस्थ बनाएं रखने के लिए हल्दी एक अहम् भूमिका निभाती है। आप हल्दी को खाने में मसाले के तौर पर इस्तेमाल करने के साथ रोजाना गर्म दूध में मिक्स कर भी पी सकते है। 

टमाटर

सब्जी में डालकर या सलाद के तौर पर खाएं जाने वाला टमाटर भी फेफड़ों को स्ट्रांग करने में मदद करता है। इसमें मौजूद लाइकोपीन नामक तत्व जो एक प्रकार का एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व है फेफड़ों को सही तरीके से काम करने में मदद करता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार नियमित रूप से टमाटर का सेवन करने से सांस से जुड़ी समस्याएं कम होती है। इसतरह यह फेफड़ों मजबूत बनाने के साथ सांस से जुड़ी बीमारियों के होने के खतरे को कम करता है। इसलिए खासतौर पर अस्थमा के मरीजों को रोजाना इसका सेवन जरूर करना चाहिए। इसे सब्जी में डालने के अलावा सलाद, सूप या जूस के तौर पर भी सेवन किया जा सकता है। 

Tomato,nari

हर्बल- टी

शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हर्बल-टी का सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें पाएं जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों के होने से बचाते है। इसलिए फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए रोजाना 1 कप हर्बल- टी का जरूर सेवन करना चाहिए। आपको बाजार से अलग-अलग तरह की हर्बल या ग्रीन- टी आसानी से मिल जाएगी। इसके अलावा आप इसे घर पर ही अदरक, नींबू, तुलसी, शहद, दालचीनी आदि चीजों से खुद तैयार कर सकते है। रोजाना इसका सेवन करने से फेफड़ों के टिशूज हैल्दी होने में मदद मिलती है। 

Green Tea,nari


Edited By

neetu

Related News