बच्चे को अगर Wheat Allergy हैं तो किन बातों का ध्यान रखें Parents

punjabkesari.in Sunday, Feb 04, 2024 - 12:38 PM (IST)

पेरेंट्स बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए उन्हें हैल्दी डाइट खिलाते हैं। लेकिन कई बार वहीं हैल्दी चीजें उन्हें नुकसान भी दे सकती हैं। हैल्दी चीजों की बात करें तो उसमें गेंहू से बनी चीजें भी शामिल होती हैं। जैसे ब्रैड, गेंहू के आटे से बनी रोटी, दलिया और अन्य चीजें परंतु यही गेंहू बच्चे के लिए परेशानी का कारण हो बन सकता है, क्योंकि कुछ बच्चों को व्हीट एलर्जी यानी की गेहूं से एलर्जी हो सकती है। इसे सेलिएक बीमारी भी कहते हैं। दरअसल कुछ लोगों का पाचन तंत्र ग्लूटेन प्रोटीन को नहीं पचा पाता जिसके कारण उन्हें गेंहू से एलर्जी हो सकती है। हैरानी की बात यह है कि कई बार पेरेंट्स को भी नहीं पता चल पाता कि उनके बच्चों को गेंहू से एलर्जी है ऐसे में आज आपको इस आर्टिकल के जरिए बताते हैं कि बच्चों को गेंहू से एलर्जी क्यों होती है और आप इसे दूर कैसे कर सकते हैं।

आखिर क्या होती है गेहूं से एलर्जी 

ग्लूटेन गेहूं, जौ, राई और सूजी में मिलने वाला प्राकृतिक प्रोटीन होता है। कई बार गेंहू में मौजूद प्रोटीन ग्लूटेन के खिलाफ शरीर में एंटीबॉडीज बनाती हैं जो आंतों में ग्लूटेन पचाने वाले तत्वों को खत्म करने लगते हैं। इसके कारण बच्चों को गेंहू या इससे बनने वाली चीजें पच नहीं पाती। 90 प्रतिशत मामलों में यह बीमारी जेनेटिक्ली होती है लेकिन कई बार परिवार में किसी सदस्य के बिना भी यह बीमारी बच्चों को हो सकती है। 

PunjabKesari

लक्षण 

मुख्यतौर पर बच्चों में 6 महीने की उम्र के बाद इसके लक्षण दिखते हैं जैसे 

. बार-बार पेट में दर्द
. वजन ना बढ़ पाना
. लंबे समय तक दस्त की समस्या होना 
. बार-बार उल्टियां होना
. पेट का फूलना
. हीमोग्लाोबिन की कमी
. जल्दी थकना

PunjabKesari
. कमजोरी रहना
. दवाओं का असर ना होना

बच्चों को न दें ये चीजें

ग्लूटेन एलर्जी के लिए कोई भी इलाज या दवा मौजूद नहीं इसलिए बच्चों में इस बीमारी को सिर्फ डाइट के जरिए ही से कंट्रोल किया जा सकता है।

.गेहूं के अलावा जौ, ज्वार में भी ग्लूटेन होता है ऐसे में बच्चों को यह चीजें बिल्कुल न दें। सफेद ब्रेड, पैनकेक्स, ग्लूटेन ब्रेड, मफिन्स, डोनट्स, फ्रेंच टोस्ट, पकौड़े, रस्क, स्टफिंग ब्रेड, कॉर्नब्रेड, बिस्कुट, सोयाबीन ब्रेड, आलू जैसी चीजें भी बच्चों को न दें। 

PunjabKesari

. शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी ना हो इसके लिए डॉक्टर की सलाह से कैल्शियम, आयरन, विटामिन, प्रोटीन सप्लीमेंट्स आप बच्चों को दे सकते हैं।

.पेस्ट्री, केक, कस्टर्ड, आइसक्रीम, आटा नूडल्स/मैकरोनी या पास्ता, कुकीज शर्बत, चॉकलेट, माल्ट प्रोडक्ट्स, और अन्य पैकेज्ड डेजर्ट से भी बच्चों में परहेज रखें क्योंकि इनमें गेहूं का आटा मिला होता है।

क्या खिलाएं?

. डाइट में मक्के की रोटी, शुद्ध मक्का, दलिया, सोयाबीन का आटा, कॉर्नमील, कॉर्नस्टार्च, जई या चावल से बने अन्य अनाज बच्चों को दे सकते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि उसमें गेहूं न मिला हो।

PunjabKesari

. अंडे से बनी चीजें, मक्खन, कॉर्न सूप, जैम, शहद, पॉपकॉर्न, अचार और मूंगफली आप बच्चों को दे सकते हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

palak

Recommended News

Related News

static