Covid Ear: क्या कानों में 'घूं-घूं' की आवाज आ रही है? Corona का हो सकता है संकेत

punjabkesari.in Monday, Feb 07, 2022 - 01:04 PM (IST)

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है जबकी तीसरी लहर ने सबसे ज्यादा बुरा हाल कर दिया है। आंकड़ों के मुताबिक, करीब 37 करोड़ से ज्यादा लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं। वहीं, 2 साल पूरे होने को आए हैं लेकिन यह बीमारी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। आमतौर पर कोरोना मरीजों में सर्दी-खांसी, बुखार, गले में खराश, सिरदर्द, थकान, गंध व स्वाद की कमी, पीठ व मांसपेशियों में दर्द जैसे लक्षण दिखाई दे रहे थे लेकिन यह वायरस तेजी से रूप बदलता है। कुछ मरीजों में ऐसे भी लक्षण दिख रहे हैं जो काफी अलग है।

डेल्टा और ओमीक्रोन के कई मरीजों में त्वचा, आंखों, पेट, पैर, कान, पेट में भी इसके गंभीर लक्षण देखे जा रहे हैं। वहीं, कोरोना के सबसे हैरान करने वाला लक्षण सामने आया है। दरअसल, कुछ मरीजों को सुनने की हानि या कान बजने का अनुभव हो रहा है।

कानों से आ रही 'घूं-घूं' की आवाज

एक्सपर्ट के मुताबिक, कुछ मरीजों को कम सुनाई देना और कानों में 'घूं-घूं' की आवाज आना जैसी समस्याएं नजर आ रही है। इसे एक्सपर्ट ने 'कोविड इयर' का नाम दिया है, जिसे टिनिटस (Tinnitus) के रूप में भी जाना जाता है।

PunjabKesari

Covid Ear क्या है

शोधकर्ताओं के अनुसार, कानों के भीतरी ऊतक में प्रोटीन होते हैं, जो SARS-CoV-2 वायरस के हमले के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं। यही वजह है कि कान में इस तरह की आवाज आ सकती है। मेडिकल भाषा में इसे टिनिटस के रूप में जाना जाता है।

Covid Ear के लक्षण

. कानों में आवाज आना
. सुनने की क्षमता कम होना
. टिनिटस और कान में दर्द

कब तक रह सकते हैं Covid Ear के लक्षण?

कोविड इयर का रहना इस बात पर निर्भर करता है कि लक्षण कितने गंभीर है। एक्सपर्ट के मुताबिक,  कोविड19 के हल्के लक्षण 7-14 दिन में ठीक हो सकते हैं लेकिन लक्षण इससे अधिक समय तक रहते हैं तो कानों की समस्याएं ठीक होने में भी समय लग सकता है।

PunjabKesari

लक्षणों से राहत पाने के लिए क्या करें?

. डॉक्टर की सलाह लेकर बुखार के लिए OTC दवाएं (एंटीपायरेटिक्स) लें। खांसी, गले में खराश को शहद या ओटीसी खांसी की दवाएं लें।
. भरपूर पानी पीएं और शरीर को हाइड्रेटेड रखें।
. हेल्दी डाइट लें और ताजे फल व सब्जियां खाएं।
. भरपूर आराम करें और हैवी एक्टिविटी करने से बचें।

लक्षण गंभीर होने पर डॉक्टर से सलाह लें और जरूरत पड़ने पर हॉस्पिटल जाएं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anjali Rajput

Related News

Recommended News

static