Basant Panchami पर करें इन चीजों का दान, होगी शुभफल की प्राप्ति

punjabkesari.in Wednesday, Jan 25, 2023 - 04:24 PM (IST)

माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को देवी सरस्वती का अवतरण हुआ था। इसलिए इस दिन ज्ञान की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। बसंत ऋतु और बसंत पंचमी का महत्व भी अलग है। इस साल बसंत पंचमी 26 जनवरी यानि माघ शुक्ल पंचमी को है। आइए जानें बसंत पंचमी का इतिहास, महत्व और मान्यताएं। ये भी जानें कि इस दिन किन चीजों के दान से शुभफल मिलता है।

PunjabKesari

बसंत पंचमी तिथि और शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी 2023 तिथि:  26 जनवरी 2023

माघ मास की पंचमी तिथि प्रारंभ:  25 जनवरी 2023 को दोपहर 12 बजकर 34 मिनट से शुरु
माघ मास की पंचमी तिथि समाप्त:  26 जनवरी 2023 को सुबह 10 बजकर 28 मिनट तक
बसंत पंचमी पूजा मुहूर्त: 26 जनवरी 2023 को सुबह 7 बजकर 12 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक

बसंत पंचमी के दिन करें ये चीजें दान

1. मां सरस्वती को विद्या, बुद्धि, गायन, वादन, स्वर की देवी माना जाता है इसलिए सरस्वती पूजा के दिन इनसे जुड़ी वस्तुओं का दान करना अत्यंत शुभ माना जाता है।

2. बसंत पंचमी के दिन विभन्न स्कूलों और शिक्षण संस्थानों में मां सरस्वती की पूजा होती है। ऐसी जगहों पर जा कर कलम, दवात, पैन, पेंसिल, कॉपी किताब जैसी पढ़ाई से संबंधित वस्तुओं का दान करना अच्छा माना जाता है।

3. स्टेशनरी के सामानों में पेन, पेंसिल, कलर बॉक्स, स्टूमेंट्स,रबर,कलर बॉक्स, स्केल, ज्योमेट्री बॉक्स , कलर पेंसिल, कलर पेन, स्कूल बैग जैसी कई चीजों में अपनी पसंद का कुछ भी चुन सकते हैं।

PunjabKesari

जानें सरस्वती पूजन का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हुई। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होनें कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुदंर स्त्री के रुप में एक देवी प्रकट हुई। इनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तसीरे में माला और चौथे में वर मुद्रा थी। ये थी देवी मां सरस्वती।

PunjabKesari

मां सरस्वती ने जब वीणा बजायी तो पूरे दुनिया में हर चीज में स्वर आ गया। इसी के लिए उनका नाम मां सरस्वती पड़ा। कहा जाता है कि उस दिन बसंत पंचमी का दिन था। तभी से देव लोक और मृत्युलोक में इस दिन विशेष रुप से मां सरस्वती की पूजा होने लगी।

 


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Charanjeet Kaur

Related News

Recommended News

static