Corona Risk: मुंबई-दिल्ली में लगी छठ पूजा पर रोक, नदी-तलाब पर जमा नहीं हो सकेगी भीड़

11/18/2020 10:36:17 AM

भारत में छठ पूजा का पर्व दिवाली के 6 दिन बाद मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं और सूर्यदेव की उपासना करती हैं। मान्यता के अनुसार, सूर्यदेव की अराधना करने से छठ माई प्रसन्न होती है और सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं। इस साल यह पर्व 18 नवंबर से 21 नवंबर तक मनाया जाएगा। हालांकि बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने कोरोना महामारी के संकट को ध्यान में रखते हुए नदी, तालाबों के किनारे छठ पूजा करने पर रोक लगा दी है। 

PunjabKesari

मुंबई में छठ पूजा पर रोक

इसके अलावा निकाय संस्था ने श्रद्धालुओं से भीड़भाड़से बचने की भी अपील की है। बीएमसी की तरफ से जारी किए गए निर्देश में कहा गया है कि बड़े पैमाने पर आयोजित होने वाली छठ पूजा पर रोक लगा दी गई है। क्योंकि बड़ी संख्या में समुद्र तट और नदी किनारे पर लोगों के इक्ट्ठा होने से कोरोना महामारी से बचाव में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराने में मुश्किल होगी। इसके साथ ही बीएमसी ने कहा है कि विभागीय स्तर पर संस्थाओं की तरफ से अनुमति मांगने पर कृत्रिम तालाब बनाने की अनुमति दी जाएगी। हालांकि पूजा स्थल पर इस दौरान मेडिकल टीम तैनात रहेगी। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर एंटीजन व आरटी-पीसीआर टेस्ट भी किए जाएंगे। 

PunjabKesari

दिल्ली में भी लगी रोक

दिल्ली में कोरोना संक्रमित के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। जिसे देखते हुए सार्वजनिक स्थलों पर छठ पूजा करने पर रोक लगा दी गई है। केजरीवाल सरकार ने इस बार लोगों से छठ पूजा अपने घरों या फिर किसी निजी स्थल पर मनाने की अपील की है। हालांकि इस दौरान भी कोरोना महामारी के दिश निर्देशों का पालन करना जरूरी है। 

PunjabKesari

झारखंड सरकार ने भी लगाई रोक

इससे पहले कोरोना महामारी के संकट को ध्यान में रखते हुए झारखंड सरकार ने राज्य में नदियों और तालाबों के तट पर होने वाली छठ पूजा पर रोक लगा दी है। इसके अलावा इस मौके पर होने वाले संगीत कार्यक्रम के आयोजन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। दरअसल, पानी के माध्यम से कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका के कारण ये रोक लगाई गई है। इसे लेकर सरकार की तरफ से निर्देश भी जारी किए गए हैं।


Bhawna sharma

Recommended News