महिलाएं हैं असली नायक: पुरुषों के मुकाबले उनके  कंधों पर काम का बोझ है ज्यादा

punjabkesari.in Tuesday, Jun 28, 2022 - 04:43 PM (IST)

ऑस्ट्रेलियाई जनगणना के आंकड़े जारी किए गए हैं, जिनमें दिखाया गया है कि महिलाएं आमतौर पर पुरुषों की तुलना में प्रति सप्ताह कई घंटे अधिक अवैतनिक गृहकार्य करती हैं। यह कोई नयी बात नहीं है। 15 वर्षों में जब से ऑस्ट्रेलियाई जनगणना ने अवैतनिक गृहकार्य के समय की गणना करना शुरू किया, महिलाओं को पुरुषों की तुलना में हर बार घर का काम ज्यादा करते पाया गया।

PunjabKesari

महिलाएं घर का काम पुरूषों से ज्यादा करती हैं

इससे पहले, 2006 की जनगणना से भी यही सामने आया था कि घरेलू काम का अधिक बोझ महिलाओं के कंधों पर है। इन नवीनतम जनगणना संख्याओं के बारे में अद्वितीय बात यह है कि ऑस्ट्रेलियाई लोगों ने काम और घरेलू जीवन के सबसे बड़े व्यवधानों में से एक अर्थात कोविड के दौरान भी अपने सर्वेक्षणों को भरा।

PunjabKesari

महामारी का दबाव

शोध ये साबित करता है कि महामारी ने महिलाओं - विशेष रूप से माताओं के काम और पारिवारिक जीवन को विनाशकारी तरीकों से बाधित किया है। आर्थिक कारणों से बंद हुए काम धंधों में महिलाओं को पुरुषों की तुलना में उच्च दर पर रोजगार से बाहर कर दिया गया, जिससे उन्हें अपनी बचत और प्रोत्साहन भुगतान पर अधिक निर्भर रहने के लिए मजबूर होना पड़ा। यह सब गृहकार्य के बोझ, बच्चों की देखभाल और होमस्कूलिंग का प्रबंधन करते हुए किया गया।

PunjabKesari
 पिता ने भी  गृहकार्य में की वृद्धि 

पिता ने घर में रहते हुए महामारी की शुरुआत में घर का काम ज्यादा किया और समय के साथ इसे बनाए रखा। पिता ने अपने गृहकार्य में वृद्धि की, लेकिन माताओं ने भी ऐसा किया, जिसका अर्थ है कि उस समय में लिंग अंतर बना रहा। इसलिए, जबकि पुरुषों की महामारी के दौरान अधिक काम करने के लिए सराहना की जानी चाहिए।

PunjabKesari

महामारी की सच्ची नायक थी माताएं

शोध में पाया गया कि माताएं महामारी की सच्ची नायक थीं, अपने स्वास्थ्य और कल्याण की कीमत पर उन्होंने काम का अतिरक्त बोझ उठाया।यह दशकों के शोध के समानांतर है, जिसमें दिखाया गया है कि महिलाएं अधिक गृहकार्य करती हैं, तब भी जब वे पूर्णकालिक रूप से कार्यरत होती हैं, अधिक पैसा कमाती हैं और विशेष रूप से एक बार जब बच्चे हो जाते हैं। पुरुषों ने समय के साथ अपने गृहकार्य और चाइल्डकेअर योगदान में वृद्धि की है और युवा पुरुष घर में अधिक उपस्थित, सक्रिय और चौकस रहना चाहते हैं।


(लिआ रुप्पनर द्वारा, मेलबर्न विश्वविद्यालय) 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Related News

Recommended News

static