Ganesh Chaturthi Special: पूजा के फूलों को फेंकने के बजाए यूं करें इस्तेमाल

punjabkesari.in Monday, Sep 18, 2023 - 05:57 PM (IST)

गणेश चतुर्थी का पावन त्योहार कल से शुरु होने वाले हैं। इस मौके पर लोग प्रथम पूज्य देवता 10 दिनों के लिए अपने घर पर ले कर आते हैं और उनकी पूजा अर्चना करते हैं। इस दौरान बप्पा को फूल भी अर्पित किए जाते हैं। 10 दिन तक लगातार फूल अर्पित करने के बाद लोग को समझ आते है कि ये फूल कहां डालें। वहीं पूजा के फूल को लेकर लोग काफी संवेदनशील होते हैं। ऐसे में इस बात को लेकर लोगों में उलझन भी रहती है कि आखिर पूजा के फूलों का क्या करें कि उन्हें कूड़ेदान में ना फेंकना ना पड़े। चलिए आज आपको शानदार तरीका बताते हैं जिसके बाद पूजा भी ये फूल काम आ सकेंगे....

PunjabKesari

पूजा के बासी फूलों से बनाएं हवन की कटोरी

पूजा के बासी फूलों से आप बहुत ही प्यारे और शानदार हवन के कप बना सकते हैं। इनको जलाकर पूरे घर में खुशबू फैल जाएगी। इसके लिए  सबसे पहले आपको पूजा के बाद फूलों को उनके डंठल से अलग कर लेना है। इसके बाद इनको सुखा लीजिए और फिर एक बाउल में डाल दीजिए। अब इसमें थोड़े से सूखे हुए संतरे के छिलके, कपूर, थोड़ा सा लोबान और हवन सामग्री, लौंग, दालचीनी डालिए।  अब इसमें थोड़ा सा देसी घी और थोड़ा सा शहद मिलाएं। अब इस सारी सामग्री को दरदरा होने तक मिक्सी में पीस लीजिए। आप हाथों से भी इसे मसल कर मोटा दरदरा बना सकते हैं। अब उनको मनचाहे आकार में किसी बाउल या इडली के सांचे में भरकर सुखाने के लिए रख दीजिए। जब आपको पूजा के लिए हवन करना हो तो इन टिक्कियों को जलाइए। इनसे बेहद प्यारी खुशबू भी आएगी और आपको छोटा सा हवन भी हो जाएगा। 

PunjabKesari
हवन करने के लिए बेस्ट है फूलों का हवन कप

आप पूजा के फूलों से हवन के कप बनाने के लिए किसी भी तरह के फूल इस्तेमाल कर सकते हैं। ये चंपा, चमेली, गुलाब या गेंदे के फूल हो सकते हैं। बस ध्यान रखना होगा क उनका ठंडल अलग करके केवल पत्तियां ही आपको यूज करनी है। इसके लिए आपको शुद्ध शहद की भी जरूरत नहीं है। इसके साथ ही अगर आप चाहें तो देसी घी की जगह तिल का तेल या दूसरे घी भी यूज कर सकते हैं। इस तरह से पूजा के फूलों को फेंकने का दुख भी नहीं होगा और आपका घर भी खुशबू से महक जाएगा। आप चाहें तो इन हवन कप दूसरों को गिफ्ट भी कर सकते हैं।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Charanjeet Kaur

static