पैरेंट्स की इन आदतों से खराब हो सकते हैं बच्चे, अभी से करे इनमें बदलाव

punjabkesari.in Monday, Sep 26, 2022 - 03:45 PM (IST)

बच्चे सबसे ज्यादा करीब अपने माता-पिता के होते हैं। पैरेंट्स की हर किसी आदत को बच्चे फॉलो भी करते हैं। माता-पिता की छोटी से छोटी आदत बच्चे पर बहुत ही गहरा असर डालती है। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि बच्चे आपकी बात मानें और आपके असूलों का पालन करें तो अपने बर्ताव में बदलाव लाएं। अगर माता-पिता चिड़चिड़े हैं या गुस्सैल हैं तो इस आदत का बच्चों पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। तो चलिए आपको बताते हैं कि कुछ ऐसी आदतें जो बच्चों को बिगाड़ सकती हैं...

बच्चों के सामने  मिसबिहेव करना

आप बच्चों के सामने किसी भी तरह का कोई मिसबिहेव न करें। छोटे बच्चे अपने आस-पास और करीबियों को देखकर ही चीजें सीखते हैं। ऐसे में यदि आप किसी के साथ कोई भी मिसबिहेव कर रहे हैं तो इसका बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। बच्चे भी दूसरों के साथ मिसबिहेव करना शुरु कर सकते हैं।

PunjabKesari

बच्चों के सामने लड़ना 

माता-पिता कई बार अपने बच्चों के सामने लड़ना शुरु कर देते हैं। पैरेंट्स को लड़ता देख बच्चे भी चिड़चिड़े हो सकते हैं। पैरेंट्स की बातों का असर बच्चों पर पड़ सकता है। ऐसे में यदि आप उन्हें लड़ने से मना करेंगे तो वह आपकी बात नहीं मानेंगे और हर किसी से लड़ने की आदत उन्हें हो सकती है। 

बच्चों को ज्यादा डांटना 

बच्चे मासूम होते हैं उनसे अक्सर गलतियां होती रहती हैं। ऐसे में यदि आप उन्हें डांटेगे तो वह चिड़चिड़े स्वभाव के हो सकते हैं। उनके स्वभाव में और भी ज्यादा चिड़चिड़ापन आ सकता है। इसलिए आप उन्हें डांटने की बजाय उन्हें बातें समझाएं। उनकी गलती होने पर उन्हें उससे सीख लेने के लिए कहें ताकि वह भविष्य में ऐसी गलती दोबारा ना कर सकें। 

PunjabKesari

बच्चों को इग्नोर करते रहना 

व्यस्त लाइफस्टाइल के कारण पैरेंट्स बच्चों पर ध्यान नहीं देते। जिसके कारण बच्चे गुस्सैल स्वभाव के हो सकते हैं। कई बार माता-पिता बच्चे की बात भी नहीं सुनते। बच्चे बात सुनाना चाहते हैं लेकिन पैरेंट्स व्यस्त होने के कारण कई बार उनकी बातों को इग्नोर कर देते हैं। जिसके कारण बच्चे का बर्ताव और भी ज्यादा खराब हो सकता है। ऐसे बर्ताव के कारण बच्चे भी माता-पिता को इग्नोर करना शुरु हो सकते हैं। 

खुद बदलें आदत 

पैरेंट्स बच्चों को बदलना चाहते हैं तो सबसे पहले उन्हें खुद को भी बदलना होगा। अगर आप चाहते हैं कि बच्चे सही समय पर उठें तो आपको खुद भी सही समय पर उठना होगा। अपनी आदतों में बदलाव करके ही आप बच्चों को सुधार सकते हैं। 

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

palak

Related News

Recommended News

static