व्हीलचेयर पर नेशनल अवॉर्ड लेने पहुंची थीं सुरेखा सीकरी, तालियों से गूंज उठा था हाल

2021-07-16T12:22:08.493

टीवी का पॉपुलर सीरीयल 'बालिका वधू' से दादी के किरदार में घर-घर मशहूर होने वाली बेहतरीन आदाकार सुरेखा सीकरी का आज 75 साल की उम्र में निधन हो गया। आज शुक्रवार 16 जुलाई 2021 की सुबह हार्ट अटैक के चलते उनका निधन हो गया। इस बात की जानकारी उनके मैनेजर ने दी, उन्होंने बताा कि वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं,  2020 में सुरेखा सीकरी को दूसरी बार ब्रेन स्ट्रोक आया था। इससे पहले वह 2018 में पैरालाइटिक स्ट्रोक की भी शिकार हो चुकी थी।  इसके बाद से ही उनकी तबीयत खराब चल रही थी। आईए जानते हैं सुरेखा सीकरी के नीजी जीवन के बारे में- 

सुरेखा सीकरी का जन्म 19 अप्रैल 1945 को हुआ। उनका परिवार मूलत: उत्तर प्रदेश का रहने वाला था। सुरेखा ने अपना बचपन अल्मोड़ा और नैनीताल में बिताया। उनके पिता भारतीय वायुसेना में थे और उनकी मां एक अध्यापिका थीं। 

PunjabKesari

ब्रेन स्ट्रोक के बावजूद व्हीलचेयर पर नेशनल अवॉर्ड लेने पहुंचीं थी सुरेखा जी
बतां दें कि अपनी शानदार एक्टिंग के चलते सुरेखा सीकरी ने टीवी समेत कई बाॅलीवुड फिल्म में अभिनय किया। साल 2018 में सुरेखा सीकरी को 'बधाई हो' के लिए नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।  फिल्म की रिलीज के बाद उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हुआ, जिसके बाद अपना पुरस्कार लेने के लिए सुरेखा सीकरी व्हीलचेयर में पहुंची थीं,  सुरेखा जी का इस उम्र भी अपने काम के प्रति लगन और मेहनत को देख  जब वह व्हीलचेयर पर अवॉर्ड लेने पहुंचीं तो उन्हें सम्मान देने के लिए लोगों ने खड़े होकर तालियां बजाईं थीं। अवॉर्ड मिलने के बाद सुरेखा ने कहा था कि मैं दिल से बहुत खुश हूं और यह खुशी दोस्तों और परिवारवालों के साथ मिलकर बाटूंगीं।

PunjabKesari

 3 बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार
अपनी उम्दा अभिनय से सुरेखा सीकरी को 3 बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। ‘तमस’ (1988), ‘मम्मो’ (1995) और ‘बधाई हो’ (2018) के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। ‘बधाई हो’ से सुरेखा को काफी फेम मिला। फिल्म में आयुष्मान खुराना, नीना गुप्ता और गजराज राव की मुख्य भूमिका थी।

PunjabKesari

आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा
ब्रेन स्ट्रोक के कारण उन्हें आंशिक रूप से लकवा मार गया था, स्वास्थ्य समस्याओं के चलते उन्हें काम में भी कम मिलने लगा। जिसके कारण उनकी आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा।

PunjabKesari

नसीरुद्दीन शाह की रिश्तेदार थीं सुरेखा सीकरी 
सुरेखा सीकरी ने हेमंत रेगे से शादी की थी। उनके एक बेटा राहुल सीकरी हैं, जो कि मुंबई में एक आर्टिस्ट के तौर पर काम करते हैं। अक्टूबर 2009 में हेमंत रेगे का निधन हो गया। कम लोगों को पता होगा कि सुरेखा सीकरी और नसीरुद्दीन शाह रिश्तेदार भी हैं। दरअसल सुरेखा की बहन मनारा सीकरी, नसीरुद्दीन शाह की पहली पत्नी थीं। मनारा को परवीन मुराद के नाम से जाना जाता है, हालांकि उनका भी निधन हो गया है। मनारा और नसीरुद्दीन की एक बेटी हीबा शाह हुईं। हीबा भी एक अभिनेत्री हैं।

PunjabKesari

सुरेखा सीकरी का फिल्मी से टीवी करियर
सुरेखा सीकरी ने अपने करियर की शुरुआत 1978 में पॉलिटिकल ड्रामा फिल्म ‘किस्सा कुर्सी का’ से की। उनकी मुख्य फिल्मों में ‘किस्सा कुर्सी का’, ‘तमस’, ‘सलीम लंगड़े पे मत रो’, ‘मम्मो’, ‘सरदारी बेगम’, ‘सरफरोश’, ‘जुबैदा’, ‘बधाई हो’ और ‘घोस्ट स्टोरीज’ हैं। इसके अलावा टीवी में सुरेखा ने 'बालिका वधू' के अलावा सीरियल ‘एक था राजा एक थी रानी’, ‘सात फेरे’, ‘बनेगी अपनी बात’ और ‘सीआईडी’ में भी काम किया। 

PunjabKesari

अपने शानदार अभिनय कौशल के चलते आज सुरेखा सीकरी को सभी जानते हैं। सुरेखा सीकरी फिल्मों और टीवी के साथ ही थियेटर का हिस्सा भी रहीं. उन्हें 3 बार बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला था. ये फिल्में तमस (1988), मम्मो (1995) और बधाई हो (2018) थी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Recommended News

static