कोरोना वाॅरियर- 26 साल की अर्शी गांव वालों के लिए बनीं ''सिलेंडर वाली बिटिया''

5/18/2021 12:25:04 PM

एक तरफ जहां कोरोना महामारी ने लोगों की जान को जोखिम में डाल रखा हैं वहीं देश में कुछ ऐसे भी लोग है जो मसीहा बनकर कोरोना पीड़ितों की दिन रात सेवा में जुटे हुए हैं। इन्हीं में से एक है 26 साल की बेटी अर्शी।

उत्तरप्रदेश के शाजापुर के मदार खेल में रहने वाली अर्शी कोरोना से पीड़ित लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराकर जीवन दान दे रही हैं।  लोग अब अर्शी को सिलेंडर वाली बिटिया के नाम से जानते हैं।
 

 दरअसल, जब अर्शी के पिता कोरोना पॉजिटिव हुए तो उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी, जिसके लिए अर्शी को कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ा।  तभी उसे ऑक्सीजन की वजह से लोगों को होने वाली परेशानी का अहसास भी हुआ और उसने अपनी स्कूटी पर ही ऑक्सीजन सिलेंडर रखकर कोरोना मरीजों की सेवा में जुट गई।  

 

PunjabKesari
 

अर्शी अब तक मुफ्त में 20 ऑक्सीजन सिलेंडर बांट चुकी हैं। इस काम में उसके दो भाई और कुछ अन्य लोग भी मदद करते हैं।
 

बतां दें कि अर्शी के पिता को एक महीने पहले सांस लेने में तकलीफ होने लगी थी। होम आइसोलेशन में रहते हुए उनका ऑक्सीजन लेवल बहुत कम हो गया। तब डॉक्टर ने अर्शी से ऑक्सीजन सिलेंडर लाने को कहा। अर्शी ने जब नगर मजिस्ट्रेस के ऑफिस में जाकर ऑक्सीजन की मांग की तो उससे कहा गया कि घर में रहने वाले मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिल सकता। जिसके बाद उसने उत्तराखंड के एक सामाजिक संगठन से वाट्सएप के जरिये ऑक्सीजन जुटाई और अपने पिता को कोरोना से मुक्त किया। 
 

अपनी ही तरह अन्य कोरोना पीड़ितों की ऑक्सीजन की समस्या को देखते हुए अर्शी ने उत्तरप्रदेश के शाहबाद और हरदोई में भी कई लोगों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराकर जीवनदान दिया है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Recommended News

static