अचानक बढ़ने लगे धन और दौलत, तो समझिए शनिदेव आप पर हो गए हैं मेहरबान

punjabkesari.in Friday, Jun 24, 2022 - 04:29 PM (IST)

न्याय के देवता शनिदेव काे कर्मो का फलदाता भी माना जाता है। कहा जाता है कि वे हर किसी को उनके कर्मों के हिसाब से फल प्रदान करते हैं। वे अच्छे कर्म करने वाले पर अपनी असीम कृपा बरसाते हैं। वहीं बुरे कर्म करने वाले को दंड देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस पर शनि मेहरबान होते हैं उसके जीवन में खुशियां ही खुशियां रहती हैं। जानिए कौन से संकेत बताते हैं कि आप पर शनि देव की कृपा बनी हुई है।

PunjabKesari

शनि कृपा के संकेत

 

समाज में मिलने लगे मान-सम्मान 

यदि आपको अचानक ही धन की प्राप्ति होने लगे और समाज में मान-सम्मान मिलने लगे तो माना जाएगा कि शनिदेव की आप पर कृपा है। 

रुका हुआ कार्य हो जाए पूरा

अचानक आपका कोई रुका हुआ कार्य पूर्ण हो जाए तो समझा जाना चाहिए कि शनि देव महाराज की कृपा प्रारंभ हो चुकी है। ऐसा होने पर शनिदेव के मंदिर में जाकर भगवान का आभार प्रकट करें और पूजा अर्चना करें।


सभी बाधाएं हो जाती हैं दूर 

शनिदेव यदि प्रसन्न हैं तो ऐसे जातक हर क्षेत्र में प्रगति करता है। उसके जीवन में किसी भी प्रकार की बाधा और कष्ट नहीं होता है। प्रॉपर्टी के मामले स्वत: ही सुलझ जाते हैं। व्यक्ति हर तरह की दुर्घटना से बच जाता है।


आपसे प्रसन्न रहते हैं सभी 

 यदि आप पर  माता-पिता, सेवक, सफाईकर्मी, अपंग लोग, कमजोर और अंधे लोग प्रसन्न हैं तो समझो कि शनिदेव आप पर प्रसन्न हैं। ऐसे लोगों को मजदूर, कमजोर और गरीब लोगों का बहुत साथ मिलता है।

PunjabKesari
शनि देव को ऐसे करें प्रसन्न

-शनिवार को काली गाय को उड़द दाल खिलाना, तेल या तिल खिलाने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।


-न्याय के देवता शनिदेव की पूजा हमेशा सूर्य निकलने से पहले या सूर्यास्त के बाद होती है। शनिवार के दिन सूर्योदय से पहले या बाद में पीपल के वृक्ष की पूजा करें। 

-शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनि महाराज की मूर्ति पर सरसों तेल अर्पित करें। 


-घर के मंदिर में शनिवार के दिन शनि यंत्र स्थापित करें। साथ ही रोजाना यंत्र के आगे सरसों तेल का दीपक जलाकर विधि-विधान से पूजा करें। 


-मान्यता है कि शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करने से शनिदेव की असीम कृपा मिलती है। साथ ही कुंडली में शनिदोष व साढ़े साती का प्रभाव कम होता है।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Related News

Recommended News

static