पापमोचनी एकादशी पर कर लें ये छोटे से उपाय, भगवान विष्णु के साथ बरसेगी कर्मदाता शनिदेव की कृपा

punjabkesari.in Saturday, Mar 18, 2023 - 10:37 AM (IST)

हिंदू धर्म शास्त्र में एकादशी के व्रत का बहुत ही महत्व बताया गया है। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन विधि-विधान से भगवान विष्णु की पूजा करने से जीवन के कष्ट दूर होते हैं और परेशानियों से भी छुटकारा मिलता है। चैत्र के महीने में आने वाली एकादशी को पापमोचनी एकादशी कहते हैं। इस बार पापमोचनी एकादशी आज के दिन मनाई जा रही है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, इस दिन श्री हरि और भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए इस दिन कुछ उपाय किए जा सकते हैं। इन उपायों से भगवान विष्णु के साथ-साथ शनिदेव की भी कृपा प्राप्त होगी। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में...

न करें मांस मदिरा का सेवन 

यदि आपकी कुंडली में भगवान शनिदेव की दशा अच्छी नहीं चल रही तो आज यानी की एकादशी के दिन मांस-मदिरा का सेवन न करें। 

शमी के पौधे के पास जलाएं दीपक 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस दिन भगवान शनिदेव की कृपा पाने के लिए और उन्हें खुश करने के लिए इस दिन बंदरों को भुने हुए चने का सेवन करवाएं। इसके अलावा काले कुत्ते को मीठी रोटी पर तेल लगाकर उसे भोजन करवाएं। इससे भगवान शनिदेव आप पर प्रसन्न होंगे और उनकी कृपा दृष्टि भी आप पर बनेगी। 

PunjabKesari

शनि की साढ़े साती होगी दूर 

यदि आपके जीवन में शनि की साढ़े साती चल रही है तो आप आज के दिन अंधेरा हो जाने के बाद पीपल के पेड़ पर मीठा जल चढ़ाएं। सरसों के तेल का दीपक, अगरबती पीपल के पेड़ के पास जलाएं। साथ में बैठकर हनुमान चालीसा और शनि चालिसा पढ़ें। चालिसा पढ़ने के बाद पेड़ की 7 बार परिक्रमा लगाएं। इसके बाद घर आ जाएं। मान्यताओं के अनुसार, इससे साढ़ेसाती दूर होगी। 

मिलेगा शुभ फल 

शनिवार के दिन आप सूर्योदय होने से पहले पीपल के पड़ पर कच्चा दूध चढ़ाएं। कच्चे दूध के अलावा कड़वे तेल का दीपक भी जरुर जलाएं। इससे आपको जीवन में शुभ फल मिलेंगे। 

शनि की स्थिति होगी मजबूत 

यदि आपकी कुंडली में शनि की स्थिति कमजोर है तो आप शनिवार को एक काली गाय की सेवा करें। नियमित सेवा करके गौ माता को रोटी जरुर खिलाएं। इससे भगवान शनिदेव की कृपा आप पर जरुर बनेगी। 

PunjabKesari

श्री हरि के मंत्र का करें जाप 

इस दिन श्री हरि के मंत्र, शनि देव के मंत्र और शनि स्त्रोत का पाठ करें। मान्यताओं के अनुसार, इन स्त्रोत का पाठ करने से शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है और जीवन में सुख-समृद्धि भी मिलती है। 

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

palak

static