प्रैग्नेंसी से पहले और दौरान क्यों जरूरी है फोलिक एसिड?

Tuesday, February 13, 2018 3:08 PM
प्रैग्नेंसी से पहले और दौरान क्यों जरूरी है फोलिक एसिड?

प्रेग्नेंसी में खानपान का खास ख्याल रखा जाता है क्योंकि मां की कमजोरी का असर होने वाले बच्चे पर भी पड़ता है। इस समय विटामिन,कैल्शियम,आयरन और प्रोटीन के साथ-साथ एक और जरूरी तत्व की खास जरूरत होती है,वह है फोलिक एसिड। यह शरीर और दिमाग में नई स्वस्थ कोशिकाएं का निर्माण करने के साथ-साथ खून में रेड सैल बनाने का काम करता है।  इसके अलावा यह हानिकारक तत्व होमोसिसटीन(Homocysteine) को कम करने के साथ-साथ स्ट्रॉक और दिल के दौरे का खतरा भी कम करता है। 

क्या है फोलिक एसिड
फोलिक एसिड एक प्रकार का विटामिन ‘बी’ (B9) है। इसे फ्लोट भी कहा जाता है। यह ब्रेन,नर्वस सिस्टम और रीढ़ की हड्डी में तरल पदार्थ के लिए भी महत्वपूर्ण होता है। गर्भावस्था में फोलिक एसिड के नियमित सेवन से गर्भस्थ शिशु में होने वाले जन्मजात विकार जैसे स्पिना बिफिडा की समस्या कम हो जाती है। यह एक बीमारी है जिससे बच्चे कि पीठ में ठीक से जोड़ विकसित नहीं हो पाता, जिसकी वजह से विकलांगता पैदा होने का खतरा बना रहता है। इसके साथ ही मां और बच्चे दोनों का एनिमिया रोग से भी बचाव रहता है।  

गर्भावस्था से पहले फोलिक एसिड
प्रेग्नेंसी की प्लानिंग कर रहे हैं तो पहले ही अपनी डाइट में फोलिक एसिड से भरपूर आहार शामिल करना शुरू कर दें। यह गर्भधारण में मदद करते हैं क्‍योंकि फोलिक एसिड, प्रजनन प्रणाली में अंडों के प्रोडक्‍शन को बढा़ कर जल्‍द गर्भधारण करने में मददगार साबित होता है। 

गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड
गर्भावस्था में मां और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए फोलिक एसिड बहुत जरूरी है। डॉक्‍टर भी इस समय औरत को फोलिक एसिड के सप्लीमेंट लेने की सलाह देते है। यह पोषक तत्वों को ठीक से अवशोषित करने के साथ-साथ शरीर में हर तरफ ऑक्सीजन पहुंचाने वाले लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए आवश्यक है। इसका सेवन करने से गर्भपात का खतरा भी कम हो जाता है। 

कमी के लक्षण
- थकान
- भूख न लगना
- खून की कमी
- सिरदर्द
- घबराहट
- चिढ़चिढापन
- सही विकास न होना
- जीभ में दर्द

1. हरी सब्जियां 
प्रैग्नेंसी में सबसे बैस्ट डाइट है हरी सब्जियां। आयरन, एंटीऑक्सीडेंट और फोलिक एसिड से भरपूर ये सब्जियां प्रजनन अंगों के लिए फायदेमंद होती है। रोजाना पालक या मूली के पत्तों का सेवन करें। अपनी डाइट में मकई, ब्रोकली,शलगम,सलाद, सरसों का साग और भिंडी आदि शामिल करें। 

2. फल  
फलों से आप आसानी से फोलिक एसिड ले सकते हैं। दिन में एक गिलास संतरे का जूस पीएं। अंगूर में विटामिन ए, फोलेट, पोटैशियम, फास्‍फोरस, मैग्‍नीशियम और सोडियम होता है जो कि प्रैग्नेंसी में फायदेमंद है।

3. साबुत अनाज
साबुत अनाज भी फोलिक एसिड का अच्छा स्त्रोत है। नाश्ते में दलिया और होल ग्रेन ब्रैड लें। आप चाहें तो होल वीट पास्ता भी खा सकते है। ओट्स में फाइबर,विटामिन बी,आयरन और कई खनिज पाए जाते हैं। दिन में एक कटोरी ओट्स का सेवन जरूर करें। 

4. अंडे
प्रैग्नेंसी में अंडा का सेवन काफी फायदेमंद होता है। प्रोटीन युक्त अंडे खाने से मां और बच्चा दोनों स्वस्थ रहते है। इसमें मौजूद कॉलिन से शिशु के मस्तिष्क का विकास होता है।

5. अंकुरित दाल
अंकुरित अनाज में विटामिन सी के अलावा फाइबर, विटामिन बी-1 और फॉलिक एसिड भी पाया जाता है। अपनी डाइट में इसे जरूर शामिल करें।




यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!