देश में जल्द बनेगी नई Parliament, टाटा ग्रुप करेगा भवन का निर्माण

2020-09-17T14:25:37.31

संसद भवन नई दिल्ली की बहुत ही शानदार भवनों में से एक है। इसका निर्माण 1921 में शुरू किया गया था, जो 1927 में बनकर तैयार हुई थी। मगर, सालों पुरानी दिल्ली की संसद भवन का निर्माण अब फिर से किया जाएगा। जी हां, देश में जल्द की नई संसद भवन का निर्माण होगा, जिसका जिम्मा टाटा ग्रुप ने लिया है।

सात कंपनियों हुई थी शामिल

संसद भवन का निर्माण करने के लिए 7 कंपनियों ने टेंडर भरा था लेकिन इसके निर्माण कार्य की बाजी ने मार ली। नए संसद भवन प्रोजेक्ट के लिए टाटा प्रोजेक्ट लि., लार्सन एंड टूब्रो लि., शपूरजी पलोनजी एंड कंपनी प्राइवेट लि., एनसीसी लि.,स आईटीडी सीमेंटेशन इंडिया लि., पीएसपी प्रोजेक्ट्स लि. और उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिेटिड कंपनी शामिल थी।

PunjabKesari

21 महीने में बन जाएगी नई सांसद

बता दें कि इस प्रोडेक्ट के लिए टाटा कंपनी ने 861.90 करोड़ और लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड ने 865 करोड़ रुपए की बोली लगाई थी। जल्द ही टाटा नए संसद भवन को बनाने का काम शुरू कर देगी, जो करीब 21 महीने में खत्म हो सकता है। हालांकि इसके लिए पुराने संसद भवन को तोड़ा नहीं जाएगा बल्कि उसके पास ही नया संसद भवन बनकर तैयार होगा। खबरों की मानें तो  'पार्लियामेंट हाउस एस्टेट' की भूखंड संख्या 118 पर संसद भवन की नई इमारत का निर्माण होगा।

PunjabKesari

2022 संसद सत्र नए संसद भवन में

हालांकि केंद्रीय लोक निर्माण विभाग का कहना है कि तब तक पुराने संसद भवन से ही काम किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक, नए भवन में सांसदों के बैठने के लिए 900 सीटें बनाई जाएंगी जबकि संयुक्त सेशन में 1350 सांसदों के बैठने का इंतजाम होगा। कहा जा रहा है कि 2022 जुलाई में होने वाला मानसून सेशन नए भवन में आयोजित हो सकता है।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anjali Rajput

Recommended News

static