गुस्सैल बच्चों से डील करने के सही तरीके

Thursday, March 16, 2017 6:02 PM

पेरेटिंग : बच्चे बहुत ही चंचल और नटखट होते हैं। अपनी हर बात को मनवाना उन्हें अच्छी तरह आता है। जब मां बच्चे की बात को नहीं सुनती या अनसुना कर देती है तो बच्चों को बहुत गुस्सा आ जाता है। अक्सर छोटे बच्चे अपना गुस्सा व्यक्त करने के लिए कई बार मां को या अपनी केयरटेकर को मारने लगते हैं। किसी के सामने ऐसा करने से मां को बहुत शर्मिंदगी महसूस होती है। उस समय शांत करवाने को लिए बच्चों को मारना भी पड़ता है लेकिन ऐसा करने से वे और जिद्दी हो जाते हैं। ऐसे में मदर्स को अपने बच्चों के साथ बहुत सावधानी से डील करना चाहिए। आइए जानिए बच्चों के गुस्से को शांत करने के लिए किन बातों का ध्यान  रखें

1. शांत रहें 
जब भी बच्चा गुस्सा करे या मारने की कोशिश करे तो उस पर चिल्लाना नहीं चाहिए और न ही हाथ उठाना चाहिए। ऐसे में अपने गुस्से पर कंट्रोल रख कर शांत रहें। इससे बच्चों को कुछ देर बाद अपनी गलती का एहसास होगा और दोबारा ऐसा नहीं करेगा।

2. व्यवहार बदलें
कुछ बच्चों को छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आ जाता है। वह हर बात पर जिद्द करतेे हैं और झगड़ते हैं। ऐसे में उनके व्यवहार को बदलने के लिए थोड़ी सख्ती भी जरूरी है।

3. मन बहलाएं 
कई बार बच्चे ज्यादा गुस्से की वजह से अशांत हो जाते हैं और लड़ने-झगड़ने लगते हैं। उनको शांत कराने के लिए बच्चों का ध्यान किसी और जगह लगाएं। उन्हें कोई चुटकुला या कविता भी सुनी सकते हैं।

4. व्यवहार को सराहें
बच्चों की हर बात पर गल्तियां निकालने से भी वह जिद्दी और गुस्सैल हो जाते हैं। बच्चे जब भी हल्की-फुल्की गलती या शरारत करें तो उन्हें गुस्सा करने की बजाए उनकी तारीफ करें। अपने बारे में अच्छा सुनकर बच्चे अपना व्यवहार बदले लेगें।

5. गुस्से का कारण
जब भी बच्चा गुस्सा करे या मारे तो उसके साथ अच्छे से बात करे और उसके गुस्से की वजह जाने। हर बार डांटने या मारने से बच्चे जिद्दी हो जाते हैं इसलिए उनके साथ प्यार से डील करें।


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!