Women's Day: महिलाओं को पुरूषों से कम सैलरी देना इस देश में है अपराध

Thursday, March 8, 2018 10:26 AM
Women's Day: महिलाओं को पुरूषों से कम सैलरी देना इस देश में है अपराध

आज के इस मार्डेन समय में महिलाएं हर क्षेत्र में पुरूषों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर चलती है। आज के समय में बहुत सी इंडिपेंडेंट महिलाएं खुद के पैरों पर खड़े होने के लिए जॉब करती है लेकिन बहुत सी जगहों पर महिलाओं को पुरूषों के मुकाबले कम सैलरी दी जाती है। मगर आज हम आपको एक ऐसे यूरोपीय देश के बारे में बताने जा रहें ह, जिन्होंने महिलाओं की सैलरी को लेकर एक बड़ा कदम उठाया है।

PunjabKesari

आइसलैंड दुनिया का पहला ऐसा देश है, जहां महिलाओं को पुरूषों के मुकाबले अधिक सैलरी देने का फैसला किया गया है। आइसलैंड की सरकार ने वुमन्स डे के मौके पर महिलाओं के लिए यह नया कानून लागू किया है कि उन्हें पुरूषों से अधिक सैलरी दी जाएगी। इसी कारण आइसलैंड शहर वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की लिस्ट में महिलाओं के अधिकारों का ख्याल रखने के मामले में टॉप पर है।

PunjabKesari

आइसलैंड के कानून के मुताबिक अगर महिलाओं की सैलरी में किसी भी तरह का अंतर पाया गया तो उस कंपनी पर जुर्माना लगा दिया जाएगा। इसके अलावा सभी प्राइवेट और सरकारी कंपनियों 25 या इससे अचाधिक कर्मरियों की बराबर सैलरी के कागजात भी रखने होंगे।

PunjabKesari

आइसलैंड में यह कदम लिंग के आधार पर सैलरी में भेदभाव को खत्म करने के लिए उठाया है। यूरोप और यूके में पुरुषों के महिलाओं की सैलरी में 16.9 प्रतिशत का अंतर है और भारत में 25 प्रतिशत का। भारत में 66 फीसदी महिलाओं को काम के बदले कुछ नहीं मिलता, जबकि इस मामले में पुरुषों की संख्या केवल 12 प्रतिशत है।

PunjabKesari


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन