बच्चे के शर्मीलेपन से हैं परेशान तो अपनाएं ये टिप्स

Monday, February 5, 2018 11:47 AM
बच्चे के शर्मीलेपन से हैं परेशान तो अपनाएं ये टिप्स

हर माता-पिता चाहतें है कि उनका बच्चा अपनी बात को दूसरों के सामने खुलकर रख सके। वह बिना डरे हर व्यक्ति से बात करे। दुनिया के साथ कदम से कदम मिला कर चले मगर कुछ बच्चे इतने शर्मीले होते हैं कि वह दूसरों से बात करना तो दूर उनके सामने आने से भी डरते हैं। एेसे बच्चे सिर्फ अपने घर के लोगों के सामने ही बात करते हैं। शर्मीला बच्चा अपने शर्मीलेपन के कारण दूसरे बच्चों से पीछे रह जाता है। अपने बच्चे को दूनिया भी भीड़ में खोता देखकर पेरेंट्स परेशान हो जाते हैं। उनको समझने की जगह वह उन पर हाथ तक उठा देते हैं जो कि गलत है। आज हम आपको कुछ एेसे टिप्स बताएंगे जिनको अपनाकर आप अपने बच्चे के शर्मीलेपन को दूर कर सकते हैं। तो आइए जानते है उन बातों के बारे में।


1. बच्चों को डांटे न

PunjabKesari
कुछ बच्चे बहुत ज्यादा शर्माते हैं। जब भी कभी आप उन्हें किसी से मिलवाने के लिए के लिए लेकर जाएं और वह डरकर आपके पीछे छिप जाएं तो उन्हें कभी डांटे न। उस समय इस बात को अनदेखा करके बाद में बच्चे के साथ बैठकर इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश करें। फिर धीरे- धीरे बच्चे को मेहमानों के सामने बैठने के लिए कहें। 

 

2. बाहर आने जाने की आजादी
एेसे बच्चों को घर में रखने की बजाए बाहर आने- जाने दें जितना वह दूसरे लोगों से घुले- मिलेगें उतना शर्मा बंद कर देंगे। धीरे- धीरे लोगों से बात करने से वह खूलकर अपने विचारों को हर किसी के सामने रख पाएंगे।

 

3. शर्मिला होने का थपा न लगाएं
कुछ माता- पिता घर आए महमानों के सामने भी कहने लगते हैं कि उनका बच्चो बहुत ज्यादा शर्माता है। अगर आप एेसा दूसरे लोगों के सामने कहते हैं तो बच्चों को लगता है कि वह कभी भी महमानों से बात नहीं कर सकता। आप के इस तरह करने से बच्चा शर्मिलापन को अपने चरित्र का हिस्सा बना लेगा है और बाद में इसको बदला नहीं जा सकता।

 

4. ग्रुप गैदरिंग 

PunjabKesari
अपने बच्चे को हमेशा अपने साथ ग्रुप गैदरिंग पर लेकर जाएं। जब वह एक ही व्यक्ति से बार- बार मिलेगा तो उसका शर्मीलापन कम हो जाएगा। बार-बार दूसरे लोगों से मिलने से बच्चे के व्यवहार में परिवर्तन आने लगेगा।

 

5. घर पर स्टेज बनाएं
अपने बच्चे के लिए घर में एक छोटा सा स्टेज बनाएं। रोजाना 1 घंटा बच्चों को स्टेज पर ले जाकर कुछ भी बोलने को कहें। जब वह एेसा करेगा तो धीरे-धीरे खुद ही उसके मन से डर बाहर निकलने लगेगा। कुछ ही दिनों में आप देखोगे कि जो बच्चा किसी के सामने बोलने से डरता था। वह अब खुलकर दूसरों के सामने अपनी बात को रख पाएगा।

 

6. मेलजोल बढ़ाना
कुछ बच्चों के मन में इस बात का डर होता है कि कुछ बोलेंगे और गलत होने पर सब के सामने उनका मजाक बन जाएगा। इस डर के मारे वह किसी से बात ही नहीं करते। एेसे मामले में बच्चों की परेशानी को समझ कर उसका सल्यूशन निकालने का प्रयत्न करें।

 


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन