बच्चे को सिखाएं कैसे करें असफलता का सामना

Wednesday, January 31, 2018 5:49 PM
बच्चे को सिखाएं कैसे करें असफलता का सामना

आजकल के जमाने में हर कोई चाहता है कि उनका बच्चा हमेशा अव्वल रहे फिर चाहे वो पढ़ाई हो या फिर कोई और फील्ड। यह बात जरूरी नहीं है कि अगर एक बार आपका बच्चा सफल हो जाए तो दूसरी बार भी वह अव्वल आएगा। सिर्फ एक आध नंबर से हो सकता है कि वह अपने लक्ष्य से पीछे रह जाए लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप बार-बार उसकी हार से उसे शर्मिंदा करें। इससे आगे के लिए उसका हौसला भी टूट सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप असफलता से उसे सामना करना सीखाएं। उसे बताएं कि किस तरह आप हार न मानकर दोबारा मेहनत करके आगे बढ़ सकते हैं। 
 

1. कोशिश के लिए करें प्रोत्साहन
बच्चे को बताएं कि मेहनत का जिंदगी में क्या महत्व है। किसी चीज को पाने के लिए की कई कोशिश उसकी जीत से ज्यादा महत्व रखती है। अगर किसी कारण उसकी हार हो गई है तो कम को खोज कर दोबारा मेहनत करे। अगली बार उसे सफलता जरूर मिलेगी। 

PunjabKesari

2.दवाब नहीं हौसला बनें
बच्चे को कभी भी उसकी हार के लिए लताड़ न लगाएं। आप खुद ही अगर उस पर दवाब बनाएंगे तो वह अंदर से पूरी तरह टूट जाएगा। उसका हौसला बनें, बताएं कि उसमें काबलियत है। हार पर पश्चाताप नहीं बल्कि कमी को पूरी करने का हौसला दें। 

4. संतुलित रखें व्यवहार
आपका बदला व्यवहार बच्चे के मन में घर कर सकता है। उसके साथ सामान्य तरीके से पेश आएं। असफल होने के बाद बच्चे को अकेला न छोड़े। उसके साथ समय बिताएं। 
 


फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP

आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन