प्रैग्नेंसी में बदलते मूड को कैसे रखें Happy-Happy

Wednesday, September 6, 2017 12:54 PM
प्रैग्नेंसी में बदलते मूड को कैसे रखें Happy-Happy

गर्भावस्था औरतों केे लिए बहुत अच्छा अनुभव है। इस समय औरत को एक ओर तो मां बनने की खुशी और दूसरी और शरीर में आने वाले बदलाव रोमांचित करते हैं। यह बात सही है कि गर्भावस्था बहुत अच्छा अनुभव हैं लेकिन इस दौरान शरीर में होने वाले हार्मोंस एस्टोजन के कारण मां बनने वाली महिला को कई तरह के मानसिक और शारीरिक बदलावों से भी गुजरना पड़ता है, जिससे उसके अंदर भावात्मक उतार-चढाव होता रहता है। एक ही पल में खुशी और दूसरे पल परेशानी या चिंता का कारण हार्मोंस ही होते हैं। मूड में बदलाव होना प्रैग्नेंसी पीरियड का सामान्य सा हिस्सा है और यह स्थाई नहीं होता। पहली तिमाही के बाद परेशानी और चिंता से राहत मिलने लगती है। आप भी अपने बदलते व्यवहार से चिंतित हैं तो जानिए, इसे खुशनुमा रखने के कुछ उपाय


गर्भावस्था के दौरान मूड को सही रखने के तरीकेः

1. पर्याप्त नींद लें
प्रैंग्नेंसी में आराम बहुत जरूरी है क्योंकि इस दौरान शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं। इसके साथ ही भूर्ण का विकास भी होता है। अगर आराम नहीं करेंगे तो थकावट महसूस होगी जिससे स्वभाव चिड़चिड़ा भी होगा। दिमागी और शारीरिक थकान मानसिक परेशानी का कारण बन सकती है। सबसे अच्छा तरीका है कि काम के साथ-साथ बीच-बीच में थोड़ा आराम करते रहें। कम से कम 8 से 9 घंटे की नींद जरूर लें। थकावट कम होगी तो आपका मूड भी खुशनूमा बना रहेगा।

2. स्वस्थ्य और संतुलित आहार 
भूखे रहने से अजीब सी बैचेनी होती हैं और शरीर में एनर्जी होने लगती हैं जिससे स्वभाव में भी सुस्ती आ जाती है। भूखे रहने से शरीर में रक्त शर्करा की कमी सेहत पर बुरा असर डाल सकती हैं। अपने खाने का खास ख्याल रखें क्योंकि आपके खाने-पीने से ही बच्चे का भी विकास होगा।  संतुलित आहार जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां,फल,सलाद,जूस आदि को अपने खाने में जरूर शामिल करें। एक बार खाने की बजाएं थोड़ी-थोड़ी देर के अंतराल में कुछ न कुछ खाते रहें। इससे मानसिक परेशानी से भी बचाव रहेगा। 

3. योग और मेडीटेशन
प्रैग्नेंसी के दौरान भारी काम करने से परहेज करें लेकिन खुद को एक्टिव रखने के लिए योग और मेडीटेशन का सहारा लें। हल्का-फुलका व्यायाम मूड को अच्छा और फ्रैश रखता है। मेडीटेशन से मानसिक परेशानी दूर हो जाती है। यह होने वाले बच्चे के लिए भी अच्छा रहता है। 

4. पति और दोस्तों के साथ बिताएं समय
गर्भावस्था में अकेले बैठे रहने से भी तनाव बढ़ता है,जिसका सीधा असर आपके मूड पर भी पडेगा। इससे निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि अपने पार्टनर के साथ समय बिताएं। कभी-कभी दोस्तों के साथ मस्ती करें। पार्टी करें,एक साथ फिल्में देखें और पुरानी यादों को ताजा करें। इससे आप खुश और फ्रैश रहेंगी। 

5. अपने शौंक को पूरा करें
प्रैग्नेंसी पीरियड्स के दौरान आपके पास अपना शौंक पूरा करने का बहुत अच्छा समय होता है। आप पेंटिग करके, किताबें पढ़कर, म्यूजिक सुनकर या फिर डायरी लिखकर भी अपने मूड को अच्छा रख सकती हैं। कुछ महिलाएं अपने आपको एनर्जैटिक रखने के लिए अपने बैबी बम्प पर भी खूबसूरत कलरफुल पेंटिंग करवाती हैं। जिससे उनका मूड भी खिला-खिला रहता है। 

6. बॉडी मसाज करवाएं
थकान से आपका मूड आलसी हो जाता है। शरीर को आराम देने के लिए हल्की-फुल्की मालिश जरूर करवाएं। हाथों-पैरों में स्वैलिंग आ जाती हैं। ऐसे में  पैडीक्योर और मैनीक्योर करवाने से भी बहुत आराम मिलता है।

7. समय निकाल कर जरूर टहलने जाएं
सारा दिन घर बैठकर भी बोरिंग लगने लगता है। हर रोज दिन में एक टाइम निश्चित कर लें और आधे घंटे के लिए पार्टनर के साथ जरूर टहलने जाएं।

 

- वंदना डालिया



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!