प्रैग्नेंसी के बाद इस तरह पाएं स्ट्रैच मार्क्स से छुटकारा

Monday, July 3, 2017 4:56 PM
प्रैग्नेंसी के बाद इस तरह पाएं स्ट्रैच मार्क्स से छुटकारा

पंजाब केसरी (पेरेंटिंग) : गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पेट पर स्ट्रैच मार्क्स होना आम बात है लेकिन कई और वजहों से भी यह समस्या हो जाती है। शरीर में जब इलास्टिन और कोलेजन फाइबर हार्मोन बदलने से त्वचा में खिंचाव पैदा होता है जिससे स्ट्रैच मार्क्स हो जाते हैं। स्ट्रैच मार्क्स के निशान पेट के अलावा जांघों, स्तन और बाजुओं का आकार बढ़ने से यह समस्या हो जाती है। अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाए तो इन्हें हटाना मुश्किल हो जाता है जिससे खूबसूरती खराब होती है। ऐसे में प्रैग्नेंसी के दौरान या तुरंत बाद ही स्ट्रैच मार्क्स को हटाने की कोशिश करनी चाहिए।

प्रैग्नेंसी के दौरान 
गर्भावस्था के दौरान जैसे ही स्ट्रैच मार्क्स की शुरूआत होने लगे तो उसी समय उसका इलाज करें। इसके अलावा सही डाइट लें और किसी क्रीम या लोशन को स्ट्रैच मार्क्स पर लगाएं।

सही समय पर करें इलाज
अगर स्ट्रैच मार्क्स का सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह गहरे गुलाबी रंग के हो जाते हैं जिसे हटाना मुश्किल हो जाता है। 

सही क्रीम और लोशन
डिलीवरी से पहले स्ट्रैच मार्क्स को हटाने कोे लिए डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि इन पर लगाने वाली क्रीम या लोशन में काफी मात्रा में विटामिन ए होता है जो होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अगर इस्तेमाल करना ही हो तो चेहरे पर लगाने वाली क्रीम लगा सकते हैं जिसमें कैमिकल्स नहीं होते और स्ट्रैच मार्क्स को भी बढ़ने से रोकते हैं।

डिलीवरी के बाद 
डिलीवरी के बाद मार्क्स को हटाने के लिए रेटिन-ए क्रीम के इस्तेमाल से अगर स्किन रैशेज और खुजली की समस्या हो जाती है तो इसकी जगह मार्किट में दूसरे भी कई तरह के प्रॉडक्ट्स मौजूद हैं लेकिन इनसे धीरे-धीरे स्ट्रैच मार्क्स कम होंगे। इसमें विटामिन सी, हाईऐल्युरोनिक एसिड और सेंटेला आस्टीटिका युक्त क्रीम और लोशन मौजूद हैं जो स्किन को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाते।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!