सदियों पहले इन दर्दनाक तरीकों से दी जाती थी मौत की सजा

Thursday, March 16, 2017 2:44 PM

लाइफस्टाइल :  किसी  भी देश में अपराधी को सजा देने के लिए उसे जेल में डाल दिया जाता है। हत्या करने या कोई बड़े क्राइम के लिए अपराधी को उम्र कैद या फांसी की सजा सुनाई जाती है लेकिन पुराने समय में अपराधी और दुश्मनों को बहुत ही दर्दनाक मौत की सजा दी जाती थी जिसके बारे में जानकर दिल दहला जाता है। अलग-अलग देशों में मौत की सजा भी डिफ्रैंट होती थी। आइए जानिए कैसे अपराधियों के साथ असहनीय और हिसंक व्यवहार होता था।

1. चाकू से काटना
1905 में चीन देश के सबसे दुष्ट अपराधी को बहुत ही बुरी सजा दी जाती थी। उसे चौराहे में बांधकर तेज धार वाले चाकू से शरीर के हर हिस्से पर काटा जाता था। पहले उसकी छाती और जांघों का मास काटते फिर धीरे-धीरे कान,नाक,उंगलियों को काटा जाता था। यह सब होने के बाद भी जब अपराधी मरता नहीं था तो चाकू से उसका दिल निकाल लिया जाता था। इस तरह तड़पते हुए उसकी मौत हो जाती थी।

2. नाव से बांधकर
कुछ देशों में सजा देने के लिए अपराधी को नाव मेें बांधकर जगंल में छोड़ दिया जाता था। उसे जबरदस्ती ढेर सारा दूध और शहद पिलाते थे ताकि दस्त लग जाएं। इसके साथ ही उसके शरीर पर दूध-शहद डाल दिया जाता था जिससे कई कीड़े-ंमकौडे़ और चीटियां उसके शरीर पर चिपक जाती थी और उसे काटने लगते थे। इस तरह अपराधी का शरीर गलने-सड़ने लगता था और भूख-प्यास से बेहाल होकर उसकी मौत हो जाती थी।

3. तोप से उड़ाना
19वीं सदी में भारत में अंग्रेजों का राज था। उन्होंने कई हिंदुस्तानियों को सजा देने के लिए तोप के मुंह से बांधकर उड़ा दिया। इससे अपराधी के उसी समय चीथड़े उड़ जाते थे और उसे ज्यादा तड़पना नहीं पड़ता था।

4. भट्ठी पर जलाना
कई देशों में अपराधी को सजा देने के लिए उसे भट्ठी के ऊपर लेटा दिया जाता था और नीचे जलते हुए कोयले रखे जाते थे। कोयलों की आंच बढ़ने से उसका शरीर धीरे-धीरे जलता था। यह आग में जलाने से भी ज्यादा क्रूर होता था।

5. घोड़ों से बांधना
अपराधी या किसी दुश्मन को सजा देने के लिए उसके हाथों-पैरों को रस्सियों से बांधकर 4 घोड़ों से बांध दियो जाता था। इसके बाद घोड़े अलग-अलग दिशाओं में दौड़ने के लिए ताकत लगाते जिससे व्यक्ति के हाथ-पैर उसके शरीर से अलग हो जाते थे। 

6. गर्म कड़ाही 
ऐसी सजा कई देशों में प्रचलित थी। एक बड़े कड़ाहे में पानी या तेल भरा जाता था और गर्म करने के लिए आग के ऊपर रख देते थे। अपराधी को इस गर्म कड़ाहे में बैठा दिया जाता था। इस सजा को टॉर्चर और राज उगलवाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

7. हाथी के पैर
पुराने समय में सजा के लिए अपराधी को हाथी के पैरों के नीचे कुचलवा कर मारा जाता था। यह एक बहुत ही भयंकर मौत होती थी।  



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !