राजा के डर से यहां लड़कियां बनवाती हैं छाती पर टैटू!

Tuesday, May 16, 2017 12:57 PM
राजा के डर से यहां लड़कियां बनवाती हैं छाती पर टैटू!

पंजाब केसरी(लाइफस्टाइल): युवाओं में टैटू बनवाने का ट्रैंड काफी तेजी से बढ़ रहा है लेकिन आज हम आपको एक एेसी जनजाति के बारे में बताएंगे, जहां की लड़कियों ने राजा से बचने के लिए शरीर के कई अंगों पर टैटू बनवाना शुरू किया।

बैगा आदिवासी के लोगों ने अपनी बेटियों को राजा से बचाने के लिए उनकी छाती और पीठ सहित शरीर के कई हिस्सों पर टैटू बनवाना शुरू कर दिया। एक प्रथा के अनुसार यहां की लड़कियों को 12 से 20 साल में टैटू बनवाना जरूरी है। टैटू बनवाने की प्रक्रिया में काफी दर्द होता है जिसे बर्दाश्त करने के लिए बुजुर्ग महिलाएं लड़की को हिम्मत देती हैं। यहां पर टैटू बनवाने की शुरुआत माथे से होती है। जिस घर में लड़की के टैटू बनवाया जाता है वहां पर पुरुषों का जाना मना है।
PunjabKesari
एेसे हुई प्रथा की शुरूआत
कहा जाता है कि एक राजा रोज एक नई लड़की को अपना शिकार बनाता था। इसके कारण यहां के लोगों ने अपनी कुंवारी लड़कियों के शरीर पर टैटू बनवाना शुरू कर दिया। बाद में यह उपाय परंपरा में बदल गया। इसकी पीछे एक और मान्यता यह है कि शरीर पर टैटू बनवाने से मरने के बाद भी वास्तविक पहचान रहती है। 

PunjabKesari



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!