कभी मां बेचा करती थी सब्जी, आज बेटी बनी इंटरनेशनल बॉक्सर

Sunday, July 9, 2017 3:15 PM
कभी मां बेचा करती थी सब्जी, आज बेटी बनी इंटरनेशनल बॉक्सर

पंजाब केसरी (लाइफस्टाइल): किसी ने सच ही कहा है दिल में तमन्ना हो तो व्यक्ति कुछ भी कर सकता है। बाजी वहीं मारता है, जो मुश्किल की घड़ी में अपने आपको निकाल कर तरक्की की राह पर आगे बढ़ने की कोशिश करता है। यह बात काफी हद तक सच भी है। कई लोग ऐसे है, जिन्होंने मुश्किल की घड़ी में हिम्मत न हारते हुए अपने आप काबिल बनाया है। उन्हीं लोगों में से असम के छोटे से गांव में एक लड़की है।

PunjabKesari

असम के शोनितपुर जिले के छोटे से गांव बेलसिरि गांव की रहने वाली जमुना बोडो आज इंडियन लेडी बॉक्सिंग के लिए मशहूर हो गई है। इन्होंने अपनी लाइफ में बहुत सी मुश्किलों का सामना किया लेकिन उनकी मां और जमुना ने कभी हिम्मत नहीं हारी। 10 साल की उम्र में जमुना ने अपने पिता हमेशा के लिए खो दिया और उसके बाद उनकी मां ने काफी बुरे हालातों से गुजरते हुए जमुना की परवरिश कीं। 

PunjabKesari

बेटी को आगे बढ़ाने के लिए मां ने अपने गांव में सड़क के किनारे बैठ सब्जी बेची।  जमुना के घर में एक मां के अलावा एक बहन और एक भाई है। जमुना ने गांव में वूशू से खेलने की शुरुआत की और बाद में उसने बॉक्सिंग ट्रैनिंग लेनी शुरू कर दीं।

PunjabKesari

PunjabKesari

 

आपको बता दे कि जमुना वूशू के डिस्ट्रिक्ट लेवल पर गोल्ड जीत चुकी है। इसके अलावा 2013 में उसने दूसरी नेशनल कप इंटरनेशनल सब जूनियर गर्ल्स बॉक्सिंग टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीता और 2014 में रूस में हुए कॉम्पीटीशन में भी उसने गोल्ड मेडल हासिल किया। इसी के साथ 2015 में वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में ब्रोन्ज मेडल जीता। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!