सोचने पर मजबूर करती हैं ये बातें, काश मैं भी लड़का होती

Friday, March 17, 2017 2:47 PM

रिलेशनशिप: वैसे तो आजकल के समय में लोगों की सोच लड़का-लड़की को लेकर काफी हद तक खत्म हो चुकी हैं लेकिन आज भी कुछ जगहें ऐसी है, जहां लड़का और लड़को को लेकर काफी भेदभाव होते है लेकिन कोई यह नहीं सोचता है कि लड़का-लड़की की अपनी अलग पहचान होती है। लड़के काफी हिम्मती होते है, वहीं महिलाएं कुछ भावुक स्वभाव की होती है।  कुछ पल ऐसे भी आ जाते है, जब लड़कियों खुद सोचने लगती है कि काश में लड़का होती तो ये काम चुटियों में कर देती। आज हम आपको कुछ ऐसे ही पल बताएंगे, जब लड़कियां सोचती है कि काश वह लड़का होती। 

 


1. घूमने की इजाजत न मिलें

जब लड़की को अपने दोस्तों के साथ बाहर घूमने के लिए जाना हो और घर से इजाजत न मिले तो प्रत्येक लड़की के दिमाग में ख्याल आता है, इससे अच्छा तो मैं लड़का होती। आजादीसे कहीं घूम-फिर तो सकती। 

2. शाम को जल्दी आना

जब परिवार वाले लड़की के घर से निकले से पहले ही उसे कहते है कि शाम को टाइम पर घर लौट आना तो अक्सर लड़की सोचती है कि ऐसा लड़को के साथ क्यों नहीं होता। 
 
3. अपनी बात न रखने का मौका

अक्सर लड़कियों को सबके सामने अपना आवाज रखने का मौका नहीं दिया जाता। अगर वह कोई ऊंची आवाज में बात कर भी तो उन्हें चुप करवा दिया जाता है। ऐसे मौको पर लड़की सोचती है कि इससे अच्छा भगवान मुझे लड़का ही बना देता। 

4. घर की इज्जत

लड़कियों को कोई भी काम करते समय या कोई फैंसला लेने से पहले कहा जाता है, तुम घर की इज्जत हो इसलिए सोच-समझकर फैंसला लेना। 
 
5. पीरियड के दौरान

पीरिड्स का मौका ऐसा है, जिसमें लड़की को दर्द, चिड़चिड़ाहट से गुजरना पड़ता है, जो उसके गुस्से का कारण बनता है। उसके मन में लड़का होने का ख्याल आता है। 


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!